बिलासपुर

जुलाई गया..अगस्त गया.. और अब सितंबर भी जा रहा है…पर यह कैसा आत्मानंद स्कूल जो अभी तक नहीं खुला.. मगरपारा के अंबेडकर स्कूल का मामला..!

Advertisement

(शशि कोन्हेर के साथ कमल दुबे) : बिलासपुर – इसमें कोई दो मत नहीं है कि प्रदेश सरकार के द्वारा शिक्षा के स्तर का उन्नयन करने के लिए आत्मानंद स्कूल का पैटर्न जबरदस्त लोकप्रिय हुआ है। वहां शिक्षा का स्तर और पद्धति लोगों को ऐसी राह आई कि अब हर जगह स्कूलों को आत्मानंद स्कूल बनाने की मांग उठने लगी। इसी क्रम में मगरपारा के अंबेडकर स्कूल में पढ़ रहे बच्चे और उनके अभिभावक तब काफी खुश हो गए। जब शासन ने इस स्कूल को आत्मा स्कूल का स्वरूप देने का फैसला कर लिया।

Advertisement

लेकिन उस वक्त ना तो बच्चों को पता था और न उनके पालकों को कि यह ऐसा स्कूल बन जाएगा जहां ना तो पढ़ाई होगी और ना बच्चों के बैठने की कोई व्यवस्था ही होगी…। और बच्चों को कोई कॉपी किताब मयस्सर होगी। कुछ ऐसा ही हाल अधिकारियों की लापरवाही ने आत्मानंद स्कूल मगरपारा का कर दिया है। पालक और बच्चे स्कूल में पढ़ा रही मैडम से पूछ रहे हैं… पूरा जुलाई निकल गया,अगस्त का महीना भी निकल गया। अब सितंबर का महीना भी खत्म होता जा रहा है। मैडम, आप यह तो बताएं कि आखिर यह स्कूल कब से खुलेगा और यहां बच्चों को कब से पढ़ने भेजना है।

Advertisement

इस पर उन्हें जवाब दिया जा रहा है कि अभी स्कूल में फर्नीचर समेत कोई इंतजाम नहीं है। जब यह हो जाएगा तब आपको सूचना दे दी जाएगी। उनके द्वारा क्लास भी ऑनलाइन करने की बात कही जा रही है। अभी 2 दिन पहले ही सभी पालकों को सूचित किया गया है कि अपने बच्चों का 110 रुपय शुल्क एक-दो दिन के अंदर अनिवार्य रूप से जमा करें। यह राशि ऑनलाइन जमा करना बेहद जरूरी है और राशि के जमा होने पर ही आपके बच्चे का एडमिशन कंफर्म माना जाएगा।

इसी तरह जिन बच्चों ने टीसी जमा नहीं की है उनसे जमा करने की बात कही जा रही है। बस एक ही बात बच्चों और उनके पालकों को नहीं बताई जा रही है कि आखिर स्कूल कब से खुलेगी…? और बच्चों को कब से वहां पढ़ने जाना है…? इस रवैये के कारण जो बच्चे और उनके पालक मगरपारा स्कूल को आत्मानंद स्कूल में बदलने की घोषणा से खुश थे। अब उन्हें यह समझ में नहीं आ रहा है कि आखिरकार उनके बच्चों का भविष्य क्या होगा।

कब स्कूल में फर्नीचर समेत दूसरी व्यवस्थाएं हो पाएंगे और कब यह स्कूल खुलेगा..? वहां तैनात शिक्षकों के पास भी इसका कोई जवाब नहीं है। लेकिन यदि जिला कलेक्टर और डी ई ओ समेत किसी भी अधिकारी के पास इस बात का जवाब हो तो वे यह बताने की कृपा करें कि इस स्कूल में फर्नीचर समेत तमाम इंतजाम कब तक हो जाएंगे और कब तक बच्चे स्कूल जाने लगेंगे..?

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button