देश

मैं मरना नहीं चाहता…सतीश कौशिक को हो गया था मौत का आभास, मैनेजर ने बताए आखिरी शब्द

Advertisement

(शशि कोंनहेर) : सतीश कौशिक इस दुनिया में नहीं हैं, उनके करीबी अब तक यकीन नहीं कर पा रहे। हर कोई जानना चाह रहा है आखिर उस रात क्या हुआ था। सतीश दिल्ली में थे जब उनको हार्ट अटैक आया। उस वक्त उनके मैनेजर संतोष उनके साथ थे। वह उनके ड्राइवर के साथ उनको अस्पताल लेकर गए थे।

Advertisement

अब संतोष ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि उस रात क्या-क्या हुआ था। मैनेजर ने बताया कि उनके आखिरी शब्द क्या थे, बेटी और पत्नी को लेकर उन्होंने क्या कहा। साथ ही यह भी बताया कि उन्हें दिल से जुड़ी कोई बीमारी नहीं थी।

Advertisement

जल्दी कर लिया था डिनर
सतीश कौशिक के मैनेजर संतोष उनके साथ 34 साल से काम कर रहे हैं। वह बाहर जाते तो उनका ड्राइवर, मैनेजर और बॉडीगार्ड्स साथ होते थे। उनके निधन के बाद संतोष ने ईटाइम्स से बातचीत में बताया कि उस रात आखिर क्या हुआ था। संतोष ने बताया कि सतीश कौशिक ने रात 8.30 बजे डिनर कर लिया था। उन्हें अगली सुबह 8.50 की फ्लाइट से मुंबई लौटना था तो कहा था कि जल्दी सो जाते हैं।

सांस लेने में हो रही थी दिक्कत
संतोष ने आगे बताया, करीब 11 बजे उन्होंने फोन करके कहा, संतोष आकर मेरा वाईफाई पासवर्ड ठीक कर दो। मैं एडिटिंग के लिए कागज 2 देखना चाहता हूं। उन्होंने 11.30 पर फिल्म देखनी शुरू की और मैं अपने कमरे में चला गया। 12.05 पर वह जोर से मेरा नाम लेकर चिल्लाने लगे। मैं दौड़ता हुआ आया और उनसे पूछा, क्या हुआ सर, चिल्ला क्यों रहे हो? आपने फोन क्यों नहीं किया? उन्होंने कहा, मुझे सांस लेने में दिक्कत हो रही है, मुझे डॉक्टर के पास ले चलो।

बोले, नहीं बचूंगा
हम जैसे ही कुछ दूर चले उनके सीने में जोर से दर्द होने लगा और वह बोले, जल्दी चलो। उन्होंने मेरे कंधे पर अपना सिर टिकाया और बोले, संतोष मैं मरना नहीं चाहता, मुझे बचा लो। हम 8 मिनट में फोर्टिस अस्पताल पहुंच गए। जब हम वहां पहुंचे तो वह होश में नहीं थे। उन्होंने कार में मुझसे कुछ और बातें कही थीं। उन्होंने मुझे पकड़ा और बोले, मुझे वंशिका के लिए जीना है, मुझे लगता है कि मैं नहीं बचूंगा। शशि और वंशिका का खयाल रखना।

सतीश कौशिक को नहीं थी दिल की बीमारी
अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर्स ने बताया कि वह जवाब नहीं दे रहे। 12:36 पर हमने सतीशजी की बहन के बच्चों को बुला लिया वे दिल्ली में ही रहते हैं। 12:40 पर सतीशजी की वाइफ को फोन किया और उनसे कहा कि हालत सीरियस है। वह बोलीं, प्लीज ऐसा मत कहो। संतोष ने बताया कि सतीश कौशिक को अस्थमा था, हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत थी और डायबिटीज भी थी। अस्थमा इतना गंभीर नहीं था। दिल की बीमारी भी नहीं थी।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button