छत्तीसगढ़

युवा संसद प्रतियोगिता का बिलासपुर में हुआ आयोजन , 8 जिलों के 264 बच्चों ने लिया भाग

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : स्कूली बच्चों को संसदीय कार्यप्रणाली से वाकिफ कराने के लिए संसदीय कार्य विभाग छत्तीसगढ़ शासन द्वारा स्कूल शिक्षा विभाग के साथ मिलकर संभाग स्तरीय युवा संसद प्रतियोगिता का आयोजन बिलासपुर जिले में किया गया । जल संसाधन परिसर में आयोजित इस कार्यक्रम में 8 जिलों के 264 स्कूली बच्चों ने अलग-अलग क्षेत्रों के संसद के रूप में भूमिका निभाई और सदन की कार्यप्रणाली का मंचन किया । जिस प्रकार सदन में कार्यवाही होती है ठीक उसी प्रकार बच्चों ने भी संसदीय सदस्य बनकर राष्ट्र हित से जुड़े गंभीर मसलों पर चर्चा की, पक्ष और विपक्ष के रूप में तर्क वितर्क किया और संसदीय कार्यप्रणाली से रूबरू हुए ।

Advertisement

कार्यक्रम में बच्चों का उत्साह देखते ही बन रहा था , राष्ट्र सुरक्षा , नारी सशक्तिकरण , कृषि उपज समर्थन मूल्य , स्वाथ्यय , शिक्षा और अपराध जैसे मसलों पर जिस प्रकार बच्चे तर्क वितर्क कर रहे थे उसे देखकर कार्यक्रम में पहुंचे अतिथि भी हतप्रभ हो गए । कार्यक्रम का उद्घाटन बिलासपुर संभाग के आयुक्त संजय अलंग और जिला पंचायत सीईओ श्रीमती जयश्री जैन ने मां सरस्वती पर माल्यार्पण करके किया । अपने मंचीय उद्बोधन में आयुक्त ने कहा कि ” मन के उद्गार प्रकट करने के लिए शब्दों का होना आवश्यक है और शब्द आपके पास तभी होंगे जब आप पढ़ेंगे इसलिए पढ़ाई को अपने जीवन का हिस्सा बनाइए और कम से कम महीने में पांच पुस्तक पढ़ने की आदत डाली है क्योंकि जितना आप पढ़ेंगे उतना ही आपके पास शब्दों की अधिकता होगी और उसी से वाक कौशल आएगा ।

Advertisement

लोकतंत्र की खूबसूरती का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि भारतीय लोकतंत्र समानता का अधिकार प्रदान करता है और बोलने की आजादी , आज बच्चों को इस रूप में देख कर मैं बहुत खुश हूं । कार्यक्रम में अतिथि के तौर पर पर्यटन मंडल के अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव , जिला पंचायत अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान और कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता अभय नारायण राय भी शामिल हुए उन्होंने भी इस कार्यक्रम की प्रशंसा की ।

कार्यक्रम का समापन और पुरस्कार वितरण नगर के महापौर रामशरण यादव , मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सीईओ श्रीमती जयश्री जैन , उपायुक्त विकास श्रीमती अर्चना मिश्रा के हाथों किया गया जिसमे प्रतियोगिता में प्रथम स्थान शैक्षणिक जिला सक्ति ने हासिल किया जिसे प्रशस्ति पत्र और 10 हजार रुपए की राशि दी गई , दूसरा स्थान जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही ने हासिल किया जिसे प्रशस्ति पत्र और साढ़े सात हजार रुपए की राशि दी गई , तीसरा स्थान जिला जांजगीर चांपा ने हासिल किया जिसे प्रशस्ति पत्र और 5 हजार रुपए की राशि देकर सम्मानित किया गया । समापन समारोह में महापौर के साथ पार्षद राजेश शुक्ला , अजय यादव , सीमा धृतेश , साईं भास्कर , मनीष गढ़वाल, सुरेश टंडन और श्याम पटेल भी विशेष रूप से उपस्थित रहे ।

कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा विभाग के संयुक्त संचालक आर एन हीराधर , उपसंचालक एस के प्रसाद , सहायक संचालक प्रशांत राय , संदीप चोपड़े , जी डी गर्ग , जितेंद्र बावरे , एच एस दिलावर ,सहायक संचालक अजय कौशिक , अखिलेश मेहता , प्राचार्य श्रीमती गायत्री तिवारी , श्रीमती रचना नायडू उपस्थित थे , प्रतियोगिता में की निर्णायक की भूमिका में इप्टा राज्य अध्यक्ष मधुकर गोरख , इप्टा जिला अध्यक्ष अरुण दाभलकर,सहायक प्राध्यापक मंजू माधुरी बाजपेई और प्राचार्य मनोज वैध रहे वही मंच संचालन की जिम्मेदारी व्याख्याता मुकुल शर्मा और सरिता सराफ ने संभाली ।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button