छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ के कांग्रेस नेता रमेश वर्ल्यानी नहीं रहे…..

Advertisement

(रायपुर) : रमेश वर्ल्यानी 1977 में जनता पार्टी की तरफ से विधायक बने थे। छत्तीसगढ़ कांग्रेस के दिग्गज नेता रमेश वर्ल्यानी का निधन हो गया। दो दिन पहले उनको दिल का दौरा पड़ा था। उन्हें एयर एम्बुलेंस से दिल्ली ले जाया गया था। उन्हें लीवर से जुड़ी समस्याएं थीं। रविवार को दोपहर 12 बजे इलाज के दौरान उनकी सांस थम गई। उनका पार्थिव शरीर रायपुर लाया जा रहा है।

Advertisement

रमेश वर्ल्यानी समाजवादी धड़े के नेता थे। दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा के करीबियों में शामिल वर्ल्यानी अभी प्रदेश कांग्रेस में प्रवक्ता थे। उन्हें आर्थिक और कर संबंधी मामलों की विशेषज्ञता थी। 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का घोषणा पत्र बनाने में भी वर्ल्यानी की भूमिका चर्चा में रही है।

Advertisement

1977 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान रायपुर ग्रामीण सीट से वे जनता पार्टी के उम्मीदवार थे। उन्होंने कांग्रेस के स्वरूप चंद जैन को हराकर वह सीट जीती थी। हालांकि 1980 के चुनाव में कांग्रेस ने इस सीट पर दोबारा वापसी की। रमेश वर्ल्यानी ने बाद में कांग्रेस जॉइन कर ली। छत्तीसगढ़ कांग्रेस में भी वे कई महत्वपूर्ण पदों पर सेवा दे चुके हैं।

सामाजिक संगठनों में भी काफी सक्रिय थे

रमेश वर्ल्यानी सामाजिक क्षेत्र में भी काफी सक्रिय थे। वे सिंधी पंचायत जैसे कई संगठनों से जुड़े हुए थे। उनके ही प्रयासों से छत्तीसगढ़ में सिंधी परिषद का गठन किया गया था। जीएसटी, आर्थिक नीतियों और सामाजिक सरोकारों को लेकर वे सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय थे।

मुख्यमंत्री ने जताया शोक

मुुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी रमेश वर्ल्यानी के निधन पर शोक जताया है। मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा, पूर्व विधायक, वरिष्ठ कांग्रेस नेता रमेश वर्ल्यानी जी का निधन शोक संतप्त करने वाला है। वे आर्थिक मामलों के अच्छे जानकार थे। मैं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रहते हुए और अब भी उनसे समय-समय पर सलाह मशविरा करता रहा। ईश्वर उनके परिजनों को यह दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button