देश

ज्ञानवापी में ASI का सर्वे यूं ही चलेगा, सुप्रीम कोर्ट से भी मुस्लिम पक्ष को झटका…..पूछा- दिक्कत क्या है

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : ज्ञानवापी परिसर के एएसआई से सर्वे पर रोक की मांग करने वाले मुस्लिम पक्ष को सुप्रीम कोर्ट से भी झटका लगा है। उच्चतम न्यायालय ने एएसआई की ओर से सर्वे जारी रखने का आदेश दिया है। सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ ने कहा कि हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि विवादित ढांचे को छुआ न जाए और वहां खुदाई न हो। हमने सभी पक्षों को सुना है। हाई कोर्ट ने एएसआई के अडिशनल डायरेक्टर की अंडरटेकिंग ली है। ऐसे में उसका फैसला सही लगता है। इस तरह सुप्रीम कोर्ट ने उच्च न्यायालय के फैसले पर सहमति जताई।

Advertisement

मुस्लिम पक्ष की अपील पर सुनवाई करते हुए अदालत ने कहा कि एएसआई ने तो राम मंदिर विवाद में भी सर्वे किया था। आखिर एएसआई का सर्वे होने से दिक्कत क्या है। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि सर्वे से परिसर को कोई नुकसान न हो। बता दें कि वाराणसी की जिला अदालत ने एएसआई से सर्वे कराने का आदेश दिया था, जिसे हाई कोर्ट ने बरकरार रखा है। इसके बाद अब उच्चतम न्यायालय ने भी इस पर मुहर लगा दी है। अदालत ने मुस्लिम पक्ष के वकीलों से पूछा कि हमें यह बताएं कि आखिर सर्वे से क्या दिक्कत होगी? इससे ऐसा क्या नुकसान हो सकता है, जिसकी भरपाई न हो सके?

Advertisement

उच्चतम न्यायालय ने कहा कि एएसआई पहले ही बता चुका है कि वहां कोई खुदाई नहीं होगी। अदालत भी यही सुनिश्चित करना चाहती है। उन्होंने कहा कि हमारी तरफ से यही कहना है कि सर्वे के दौरान विवादित परिसर को कोई नुकसान न पहुंचे। इस दौरान अदालत में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान का भी जिक्र हुआ। पिछले दिनों सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि ज्ञानवापी में आखिर त्रिशूल क्यों है, वहां देव प्रतिमाएं क्यों नजर आती हैं। यही नहीं उन्होंने कहा था कि इस मामले में मुस्लिम पक्ष को ही प्रस्ताव लाना चाहिए और ऐतिहासिक भूल मानते हुए उसका समाधान होना चाहिए।

इस दौरान मुस्लिम पक्ष अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद कमेटी ने कहा कि सर्वे होगा तो फिर इतिहास के पुराने जख्म सामने आएंगे। वरिष्ठ वकील हुजेफा अहमदी ने कहा कि एएसआई के सर्वे में इतिहास के तथ्यों को खोदकर निकाला जाएगा। इससे पुराने जख्म फिर से सामने आएंगे। उन्होंने कहा कि यह तो 1991 के प्लेसेज ऑफ वर्शिप ऐक्ट का भी उल्लंघन है। यही नहीं देश में सेक्युलरिज्म को भी इससे नुकसान पहुंचेगा। इस पर अदालत ने कहा कि आप एक ही तर्क के आधार पर हर चीज का विरोध नहीं कर सकते।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button