देश

गहलोत अगर ऐसे ही अडे रहे तो क्या करेंगे सचिन पायलट..?

(शशि कोन्हेर) : राजस्थान में सर्दी ने दस्तक दे दी है लेकिन बीते दिनों कांग्रेस के भीतर मचे घमासान ने सूबे की सियासत के पारे चढ़ाए हुए रखा है. ऐसा लग रहा है था कि राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ ठीक हो रहा है लेकिन सीएम गहलोत के गद्दार वाले बयान ने फिर से इस विवाद को हवा दे दी है. सीएम गहलोत के पायलट को लेकर दिए गए बयान से ये जाहिर हो रहा है ।

Advertisement

कि उन्हें सचिन पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री के रूप में कतई मंजूर नहीं है. ऐसे में सवाल ये उठता है कि जब अशोक गहलोत मुख्यंत्री पद छोड़ना नहीं चाहते हैं या पायलट को सीएम के तौर पर स्वीकार नहीं करते हैं तो पायलट के पास आगे क्या-क्या विकल्प हो सकते हैं. आइए हम उन तमाम विकल्पों पर नजर डालते हैं जो सचिन पायलट आने वाले दौर में अपना सकते हैं.

Advertisement

क्या बीजेपी में होंगे शामिल?
राजस्थान में सचिन पायलट बड़े चेहरे हैं. ऐसे में भारतीय जनता पार्टी की उनपर लंबे समय से नजर है. मौके-मौके पर बीजेपी नेता ये कह भी चुके हैं कि अगर पायलट बीजेपी ज्वॉइन करते हैं तो उनका स्वागत है. लेकिन यहां भी एक पेच है. अगर पायलट बीजेपी में आते हैं तो उनके लिए राह इतनी आसान नहीं होगी।

Advertisement

क्योंकि राजस्थान बीजेपी में भी मुख्यमंत्री पद की रेस में कई नेता हैं. प्रदेश में बीजेपी की तरफ वसुंधरा राजे के अलावा सतीश पूनिया भी कतार में हैं. पूनिया के समर्थक भी उन्हें आने वाले समय का सीएम कहते हैं. वहीं दूसरी तरफ बीजेपी का एक धड़ा वसुंधरा राजे को सीएम के रूप में देखना चाहता है.

क्या बनाएंगे नई पार्टी?
सचिन पायलट अगर कांग्रेस छोड़ते हैं और वे बीजेपी में शामिल नहीं होते हैं तो पायलट अपनी नई पार्टी बना सकते हैं. हालांकि अभी ये कहना जल्दबाजी होगी और साफतौर पर अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता है.

क्या करना होगा इंतजार?
राजस्थान में पिछले 20 सालों से ये देखा गया है कि प्रदेश में पांच साल कांग्रेस तो पांच साल बीजेपी का राज रहता है. ऐसे में साल 2018 में कांग्रेस सत्ता पर काबिज होने में कामयाब रही थी. अगर ये परिपाटी जारी रही और राजस्थान में सत्ता परिवर्तन होता है तो सचिन पायलट को अभी और इंतजार करना पड़ सकता है. 

हाईकमान के पास अटका मामला
फिलहाल राजस्थान चुनाव में एक साल से ज्यादा का समय बचा है. हाईकमान के पास मामला अटका है. वहीं गहलोत-पायलट के ताजा विवाद पर कांग्रेस के बड़े नेता और मीडिया विभाग के प्रमुख जयराम रमेश ने बयान दिया. उन्होंने कहा कि इस मसले को कांग्रेस जल्द ही सुलझा लेगा. रमेश ने इशारों-इशारों में गहलोत और पायलट दोनों नेताओं को ही नसीहत दे डाली. उन्होंने कहा कि संगठन सबसे ऊपर है.

पायलट को सीएम बनाने की मांग इसलिए हुई तेज

दरअसल राजस्थान में सचिन पायलट को सीएम बनाने की मांग तो दबी आवाज में उठती ही आ रही है लेकिन इसे बल तब मिला जब कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव का समय आया. कांग्रेस में सबकुछ ठीक चल रहा था लेकिन कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव की सुगबुगाहट के साथ ही कांग्रेस के खेमे में हलचल मचना शुरू हो गई थी।

Advertisement

क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष पद के सबसे प्रबल दावेदार अशोक गहलोत ही माने जा रहे थे और हर किसी को यही लग रहा था कि गहलोत कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान संभालेंगे और पायलट के लिए सीएम की कुर्सी का रास्ता साफ हो जाएगा. लेकिन जैसे ही अशोक गहलोत अध्यक्ष पद की रेस के बाहर हुए पायलट समर्थकों के लिए ये एक बड़ा झटका रहा. क्योंकि गहलोत ने अध्यक्ष पद से बेहतर राजस्थान के मुख्यमंत्री पद को समझा और पायलट का सीएम बनने का सपना एक बार फिर पूरा नहीं हो सका.

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button