छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ भाजपा के गले की फांस बन गया है दुष्कर्म का आरोप… वहां, भानुप्रतापपुर में ब्रम्हानंद नेताम तो यहां बेलतरा क्षेत्र में शिवानंद सराफ उर्फ छोटल…? एक, उपचुनाव लड़ रहा.. तो दूसरा, फरारी काट रहा..!

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर :  दुष्कर्म का आरोप और भारतीय जनता पार्टी इन दोनों के बीच की पड़ी गांठ छूटने का नाम ही नहीं ले रही। पार्टी के प्रदेश प्रभारी ओम माथुर और प्रदेश अध्यक्ष श्री अरुण साव को पदभार संभालते ही जिन मुश्किलों और आरोपों से दो चार होना पड़ा है उसमें सबसे बड़ी मुश्किल पार्टी नेताओं पर लगे दुष्कर्म के आरोप हैं। हालांकि इनके पद संभालने के पहले भी पूर्व मुख्यमंत्री डा रमन सिंह के निजी सचिव और खासमखास ओपी गुप्ता को भी इसी तरह दुष्कर्म का आरोप जेल तक यात्रा करा चुका है।

Advertisement

लेकिन बीते एक पखवाड़े में पार्टी नेताओं पर जिस तरह दुष्कर्म के आरोप लग रहे हैं उसे पार्टी मुसीबत में और असहज होती दिखाई दे रही है। पार्टी के भानूप्रतापपुर प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम पर लगे दुश्कर्म के आरोप कितने सही है अथवा कितने गलत..? यह तो आने वाला समय और उस दौरान चलने वाली न्याय प्रक्रिया ही बताएगी।

Advertisement

लेकिन ब्रह्मानंद नेताम को भानूप्रतापपुर से भाजपा का प्रत्याशी बनाने के साथ ही उठे दुष्कर्म के आरोपों के बवंडर ने भाजपा को सुरक्षात्मक और बैकफुट पर लाकर खड़ा कर दिया है। भानूप्रतापपुर का मतदाता भी अब उसके प्रत्याशी को यह सोचकर शक की निगाह से देखने लगा है कि पता नहीं क्या सच है और क्या गलत..? लेकिन ऐसे आरोप बहुत ही गंभीर किस्म के माने जाते हैं।

Advertisement

विभिन्न जेलों में बंद हजारों हजार कैदी तक, दुष्कर्म के आरोप को सबसे अधिक गंदा मानते हैं। और इस आरोप में जेल जाने वाले आरोपियों की लंबी ठुकाई किया करते हैं। बहरहाल भारतीय जनता पार्टी के संकटमोचक और उपचुनाव के प्रभारी श्री बृजमोहन अग्रवाल अपने भाजपा प्रत्याशी पर लगे दुष्कर्म के आरोपों के बावजूद भानूप्रतापपुर में किस तरह कमल खिलाएंगे यह वे ही जानें।


देखा जा रहा है कि अगर श्री ब्रह्मानंद नेताम पर लगे आरोपों ने भाजपा को भानूप्रतापपुर में मुश्किल में डाल दिया है तो भाजपा के एक और नेता ने  बिलासपुर जिले और यहां के बेलतरा विधानसभा क्षेत्र में पार्टी को मुश्किलों में डाल दिया है। यहां बेलतरा विधानसभा क्षेत्र के भाजपा नेता और बिल्हा जनपद पंचायत के सभापति शिवानंद शराफ पर लगे दुष्कर्म के आरोप पार्टी की छवि को खराब कर रहे हैं।

महिलाओं की अस्मिता और मान सम्मान को लेकर भारतीय जनता पार्टी जब केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की अगुवाई में बिलासपुर में महतारी हुकार रैली के सफल आयोजन में लगी हुई थी। ठीक उसी समय बिल्हा जनपद पंचायत के सभापति श्री शिवानंद सराफ पर लगे दुष्कर्म के आरोपों को लेकर स्थानीय भाजपा पर उंगलियां उठाई जा रही थी। कहा यह भी जाने लगा था कि महतारी हूंकार रैली के लिए बिलासपुर आने वाली स्मृति ईरानी को भाजपा नेता शिवानंद सराफ पर लगे  दुष्कर्म के आरोपों का भी जवाब देना चाहिए।

और यह बताना चाहिए कि इतने गंभीर आरोप के बाद भी पार्टी उसे निकाल बाहर करने की बजाय सौरक्षण क्यों दे रही है..? जिस तरह भानूप्रतापपुर के ब्रह्मानंद नेताम पर नाबालिक के साथ दुष्कर्म का आरोप लगा हुआ है.उसी तरह बेलतरा विधानसभा क्षेत्र के  लोफंदी गांव में रहने वाले शिवानंद सराफ उर्फ छोटल पर उनके ही घर में काम करने वाली 38 साल की एक महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है। इस महिला ने आरोप लगाया है कि सन 2021 में शिवानंद सराफ ने उसे खेत में काम करने के बहाने बुलाया और इस दौरान उसके साथ दुष्कर्म किया। इस मामले की रिपोर्ट भी बिलासपुर जिले के कोनी पुलिस थाने में दर्ज है। और भाजपा नेता शिवानंद सराफ को फरार बताया जा रहा है।


यह मामला कांग्रेस के जिला पंचायत सदस्य और सभापति अंकित गौरहा के द्वारा भाजपा की महतारी हुंकार रैली के दौरान जोर शोर से उठाया गया था। लेकिन कुल जमा लब्बोलुआब अब यह है कि ब्रह्मानंद नेताम और शिवानंद सराफ पर लगे आरोपों को लेकर भाजपा सफाई देने की मुद्रा में दिखाई दे रही है।

और जहां तक दोनों दुष्कर्म के आरोपी भाजपा नेताओं की बात है तो इनमें से एक इस समय भानूप्रतापपुर उपचुनाव में घर-घर जाकर वोट मांग रहा है जबकि दूसरा पता नहीं किस दडबे में छुपकर कोर्ट से जमानत के इंतजार में फरारी काट रहा है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button