बिलासपुर

पूज्या हेमलता दीदी के मुखारबिंद से बनियाडीह में श्रीमद्भागवत कथा का रसपान कर रहें है स्रोता

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर/सीपत:- ग्राम बानियाडीह में रिद्धि सिद्धि महिला स्व सहायता समूह द्वारा श्रीमद भागवत कथा का अनवरत सात दिवस से जारी है जिसका समापन 28 फरवरी को गीता पाठ तुलसी वर्षा हवन सहस्त्रधारा के साथ होगा। कथाव्यास पूज्या दीदी हेमलता शर्मा एवं बाल व्यास नरेंद्र शर्मा द्वारा आज की कथा में सुदामा चरित्र का वर्णन किए जाने पर पंडाल में उपस्थित श्रोता भाव-विभोर हो गए। कथाव्यास ने सुदामा चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि मित्रता करो, तो भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा जैसी करो। सच्चा मित्र वही है, जो अपने मित्र की परेशानी को समझे और बिना बताए ही मदद कर दे। परंतु आजकल स्वार्थ की मित्रता रह गई है। जब तक स्वार्थ सिद्ध नहीं होता है, तब तक मित्रता रहती है। जब स्वार्थ पूरा हो जाता है, मित्रता खत्म हो जाती है।

Advertisement


उन्होंने कहा कि एक सुदामा अपनी पत्नी के कहने पर मित्र कृष्ण से मिलने द्वारकापुरी जाते हैं। जब वह महल के गेट पर पहुंच जाते हैं, तब प्रहरियों से कृष्ण को अपना मित्र बताते है और अंदर जाने की बात कहते हैं। सुदामा की यह बात सुनकर प्रहरी उपहास उड़ाते है और कहते है कि भगवान श्रीकृष्ण का मित्र एक दरिद्र व्यक्ति कैसे हो सकता है। प्रहरियों की बात सुनकर सुदामा अपने मित्र से बिना मिले ही लौटने लगते हैं। तभी एक प्रहरी महल के अंदर जाकर भगवान श्रीकृष्ण को बताता है कि महल के द्वार पर एक सुदामा नाम का दरिद्र व्यक्ति खड़ा है और अपने आप को आपका मित्र बता रहा है। द्वारपाल की बात सुनकर भगवान कृष्ण नंगे पांव ही दौड़े चले आते हैं और अपने मित्र को रोककर सुदामा को रोककर गले लगा लिया। भगवान की कृष्ण और मित्र सुदामा के जीवन चरित्र को सुनकर उपस्थित भक्तगण भावुक हो गए, पूज्या दीदी हेमलता शर्मा एवं बाल व्यास नरेंद्र शर्मा जी का आगामी भागवत कथा 01 मार्च से 08 मार्च तक कोरबा में होगा।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button