भिलाई

VIDEO : राइफल के साथ फोटो खिंचवाने के बाद उसे इंस्टाग्राम पर अपलोड करने वाले दो आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़े

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : दुर्ग के पुलिस अधीक्षक डॉ अभिषेक पल्लव के द्वारा सोशल मीडिया पर अस्त्र-शस्त्र लेकर फोटो खिंचवा कर अपलोड करने की घटनाओं को काफी गंभीरता से लिया जा रहा है। उनके द्वारा जन्मदिन या अन्य मौकों पर हथियारों के साथ फोटो खिंचवा कर सोशल मीडिया में डालने वाले तत्वों की तलाश के लिए सख्त निर्देश दिए गए हैं। उनके इस निर्देश के परिपालन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री संजय ध्रुव, नगर पुलिस अधीक्षक श्री निखिल राखेचा, उप पुलिस अधीक्षक श्री प्रभात कुमार के मार्गदर्शन में एसीसीयू प्रभारी निरीक्षक संतोष मिश्रा और थाना प्रभारी वैशाली नगर श्रीनाथ त्रिपाठी के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई और सोशल मीडिया पर ऐसे तत्वों की निरंतर तलाश तथा निगरानी की जाती रही।

Advertisement

इस टीम और साइबर सेल के द्वारा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के फेसबुक इंस्टाग्राम और ट्विटर आदि पर लगातार नजर रखी जाती रही है।जिससे कारण इंस्टाग्राम पर राइफल लेकर फोटो खिंचवा कर अपलोड करने वाले दो युवाओं की पहचान के पश्चात उनके खिलाफ कार्रवाई की गई। जिन दो युवकों के खिलाफ कार्यवाही की गई है उनमें भिलाई के वैशाली नगर थाना क्षेत्र में कैंपटेक गौसिया मस्जिद के पास रहने वाला आलोक सिंह उर्फ आलू तथा राहुल सोनकर शामिल है। इनसे पूछताछ करने पर आलोक सिंह उर्फ आलू ने बताया कि 7 से 8 साल पहले जन्मदिन पर अपने परिचित सेना से रिटायर्ड व्यक्ति की लाइसेंसी राइफल को हाथ में लेकर फोटो खिंचवाने के पश्चात उसे सोशल मीडिया में अपलोड कर दिया। जो आज तक वायरल हो रही है।

Advertisement

इसी तरह दूसरे आरोपी राहुल सोनकर के द्वारा सुरक्षा गार्ड का काम करने वाले अपने चाचा की लाइसेंसी राइफल को हाथ में लेकर फोटो खिंचवा कर सोशल मीडिया में अपलोड किया गया था। इनमें से एक आरोपी आलोक सिंह उर्फ आलू थाना वैशाली नगर क्षेत्र का आदतन बदमाश है। जिसके विरुद्ध मारपीट समेत अन्य वारदातों के लगभग 7 प्रकरण पूर्व से लंबित हैं। जबकि दूसरे आरोपी राहुल सोनकर और उसके चाचा को बुलाकर समझाइश दी गई। राहुल सोनकर से कहा गया कि आइंदा ऐसा ना करें। जबकि उसके चाचा से कहा गया कि राइफल जैसी खतरनाक चीज को आपने ऐसे ही खुले में छोड़ दिया। जो भतीजे के हाथ लग गई। उनसे कहा गया कि वह आइंदा ऐसी लापरवाही ना करें।

इस मामले में कार्रवाई करने में एंटी क्राइम एवं साइबर सेल के सहायक उपनिरीक्षक शमित मिश्रा आरक्षक रिंकू सोनी आरक्षक भावेश पटेल अमित दुबे डी प्रकाश राकेश अन्ना नितिन सिंह और सहायक उपनिरीक्षक सुरेश पांडे तथा आरक्षक दिनेश जायसवाल की भूमिका सराहनीय रही।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button