देश

फिर संकट में कर्नाटक कांग्रेस, सिद्धारमैया के खिलाफ उतरे नेता……

Advertisement

(शशि कोन्हेर).: कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी संकट का सामना कर रही है। इसके एक वरिष्ठ नेता ने राज्यव्यापी दौरा शुरू कर दिया है। यह वही नेता हैं जिन्हें कैबिनेट में जगह नहीं मिली थी। हम बात कर रहे हैं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के पूर्व महासचिव और वर्तमान एमएलसी बीके हरिप्रसाद की। बीके हरिप्रसाद राज्यभर में रैलियां कर रहे हैं। वे राज्य में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) समुदायों के साथ बैठकें कर रहे हैं। ओबीसी राज्य में कांग्रेस का वोट बैंक रहा है और इसके बारे में कहा जाता है कि यह मुख्यमंत्री सिद्धारमैया से जुड़ा है।

Advertisement

मामले की जानकारी रखने वाले नेताओं के मुताबिक, हरिप्रसाद की बैठकों के दौरान सीएम के खिलाफ बयानबाजी होती है। इसके परिणामस्वरूप अब पार्टी आलाकमान से औपचारिक शिकायत की गई है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, सिद्धारमैया ने अपने खिलाफ हरिप्रसाद के बयानों के संबंध में सोमवार को कर्नाटक में पार्टी मामलों के प्रभारी कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला से बात की। इस दौरान उन्होंने “पार्टी विरोधी गतिविधियों” के लिए नेता के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

Advertisement

कर्नाटक के एक मंत्री ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “इसके बाद, पार्टी आलाकमान ने मामले में हस्तक्षेप किया और मंगलवार को उनके (हरिप्रसाद के) साथ चर्चा की। उन्होंने हरिप्रसाद को सिद्धारमैया के खिलाफ सार्वजनिक टिप्पणी करना बंद करने के लिए मना लिया है। हालांकि, उनके खिलाफ कार्रवाई की संभावना नहीं है क्योंकि उन्हें हाल ही में कांग्रेस कार्य समिति में स्थायी आमंत्रित सदस्य बनाया गया है।”

मंत्रिमंडल से बाहर किए जाने से नाराज हरिप्रसाद पहले भी कई बयान दे चुके हैं। अब पिछले शनिवार को, उन्होंने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया पर परोक्ष हमला किया और दावा किया कि उन्हें गलत तरीके से राज्य मंत्रिमंडल से बाहर रखा गया। हरिप्रसाद ने पार्टी नेताओं को आगाह किया कि दलित नेताओं की निरंतर उपेक्षा से राज्य के लिए गंभीर परिणाम हो सकते हैं। हरिप्रसाद ने सिद्धारमैया का नाम लिए बिना उन पर निशाना साधते हुए कहा, ”सिर्फ धोती, हब्लोट घड़ी और अंदर खाकी शॉर्ट्स पहनकर आप खुद को समाजवादी नहीं कह सकते।”

रविवार को हरिप्रसाद कोप्पल जिले के तालाबला में एक सामूहिक विवाह समारोह में शामिल हुए। वहां, उन्होंने सिद्धारमैया के समर्थक मालूर विधायक केवाई नानजेगौड़ा पर हमला किया। इसके बाद विधायक ने चेतावनी दी थी कि वह पार्टी और सीएम के खिलाफ उनकी टिप्पणियों के लिए उनके (हरिप्रसाद) खिलाफ कांग्रेस आलाकमान से शिकायत करेंगे। हरिप्रसाद ने कहा था, “वह (विधायक) एक घोटालेबाज है। पहले उसे साफ होने दो। उसे मेरे खिलाफ शिकायत करने दो।”

नांजेगौड़ा पर हमला सीएम के खिलाफ हरिप्रसाद के बयान की निंदा करने के बाद हुआ। नानजेगौड़ा ने कहा, “वे वही हैं जिन्हें पार्टी से लाभ हुआ। सिर्फ इसलिए कि उन्हें मंत्री नहीं बनाया गया, वह मुख्यमंत्री या उपमुख्यमंत्री की आलोचना नहीं कर सकते। उनके व्यवहार की निंदा की जानी चाहिए और केपीसीसी और एआईसीसी दोनों द्वारा उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए।”

इस बीच, बड़े एवं मध्यम उद्योग व बुनियादी ढांचा विकास मंत्री और सिद्धारमैया के करीबी विश्वासपात्र एमबी पाटिल ने कहा कि पार्टी मुख्यमंत्री के बारे में हरिप्रसाद द्वारा की गई परोक्ष टिप्पणियों पर नजर रख रही है और उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा, “हरिप्रसाद एक वरिष्ठ नेता हैं। उन्होंने पार्टी महासचिव, राज्यसभा सदस्य और विधान परिषद में विपक्ष के नेता के रूप में काम किया है। उन्हें इस तरह से बात नहीं करनी चाहिए थी।”

Advertisement

उन्होंने कहा, “सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मल्लिकार्जुन खरगे, रणदीप सुरजेवाला और केसी वेणुगोपाल सहित वरिष्ठ नेता उनके करीबी हैं। वह पार्टी मंच पर उनसे बात कर सकते थे। इसके बजाय, उन्होंने सड़कों पर बोलना चुना है। यह ठीक बात नहीं है। उन्हें परिणाम भुगतने होंगे।” हालांकि, आईटी/बीटी मंत्री प्रियांक खरगे ने हरिप्रसाद का बचाव करते हुए कहा कि नेता पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल नहीं थे। उन्होंने कहा, “किसी समुदाय की ओर से पार्टी विरोधी गतिविधि के बारे में बोलना कैसा है? क्या उन्होंने पार्टी को गाली दी? किसी समुदाय के लिए लड़ने में कुछ भी गलत नहीं है।” खरगे जूनियर ने कहा, “यह सच है कि हर किसी को पद नहीं दिया जा सकता। कई दावेदारों के लिए केवल एक ही कुर्सी होगी। वे सभी लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी के लिए काम करने पर सहमत हुए हैं।” उन्होंने विश्वास जताया कि हरिप्रसाद आलाकमान के साथ अपने मुद्दों को सुलझा लेंगे।

Advertisement

बीजेपी नेता बसवनगौड़ा पाटिल ने सवाल किया कि कांग्रेस अध्यक्ष हरिप्रसाद के खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “जब मैंने अपनी पार्टी के नेताओं के खिलाफ बोला था, तो डीके शिवकुमार ने कहा था कि अगर यह कांग्रेस में हुआ होता, तो वह उस व्यक्ति को बाहर निकाल देते। अब हरिप्रसाद सीएम के खिलाफ बोल रहे हैं; वह चुप क्यों है?” पाटिल को जवाब देते हुए हरिप्रसाद ने कहा, ”हमारी पार्टी में कोई कलह नहीं है। हमारे यहां आंतरिक लोकतंत्र है, इसलिए मैं खुलकर बोल रहा हूं।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button