play-sharp-fill
छत्तीसगढ़

सुप्रीम कोर्ट के स्थगन पर कांग्रेसी खुश ना हों – उपासने

(शशि कोन्हेर) : रायपुर। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य लोकतंत्र सेनानी संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सच्चिदानंद उपासने ने कहा कि लोकतंत्र सेनानियों के पेंशन प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए स्थगन से कांग्रेसी ऐसे खुश हो रहे हैं मानो उन्होंने बहुत बड़ी लड़ाई जीत ली हो ।उपासने ने कहा कि अपनी वैधानिक अज्ञानता के परिणाम स्वरुप थोड़े दिनों तक मन के लड्डू कांग्रेसी खा ले।

Advertisement

उपासने ने कहा विधि कि यह स्पष्ट मान्यता है कि जब भी किसी निम्न न्यायालय के निर्णय के विरुद्ध पीड़ित पक्ष ऊपरी अदालत में उसे चुनौती देता है तो इस प्रकार का स्थगन आदेश जारी कर सभी पक्षकारों को अंतिम सुनवाई हेतु नोटिस जारी की जाती है ।सुप्रीम कोर्ट ने भी इसी विधिक प्रक्रिया का निर्वहन कर छत्तीसगढ़ सरकार की मीसा बंदियों के विरुद्ध छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के पारित आदेश के विरुद्ध पेश की गई अपीलों में किया है,न कि मीसा बंदियों की पेंशन निरस्त करने बाबत कोई निर्णय दिया।

Advertisement

उपासने ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा मीसा बंदियों के भौतिक सत्यापन के नाम पर पेंशन राशि को बंद करने के निर्णय से लेकर रमन सरकार के इस संबंध में जो भी नियम बनाए गए उसे निरस्त करने के समस्त आदेशों को छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय की सिंगल और डबल बेंच ने भी अवैधानिक का ठहराते हुए अपने निर्णय में छत्तीसगढ़ शासन को फटकार लगाते हुए कहा कि यह नेचुरल जस्टिस का उल्लंघन है तथा यह भी फटकार लगाई इस प्रकरण में शासन ने अपनी समस्त वैधानिक सीमाओं को लांघकर दुर्भावना पूर्वक उच्च न्यायालय के निर्णय को भी बायपास करने का दुस्साहस किया है।

Advertisement

इस टिप्पणी के साथ मीसा बंदियों को यथावत सम्मान निधि देने हेतु शासन को कोर्ट ने आदेशित किया। उपासने ने कहा कि इन्हीं आधारों पर कोर्ट में छत्तीसगढ़ शासन की याचिकाएं अंतिम रूप से निरस्त होगी व मीसा बंधुओं की जीत सुनिश्चित है।
सच्चिदानंद उपासने

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button