बिलासपुर

महापौर सभापति,पार्षदों का मानदेय दोगुना और पार्षद निधि बढ़ाने का शहर विधायक शैलेश पांडे ने किया स्वागत, मुख्यमंत्री को दिया धन्यवाद

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा आज नगर निकायों के महापौर सभापति पार्षदों के मानदेय दोगुना करने तथा महापौर पार्षद निधि डेढ़ गुणा करने की घोषणा किए जाने पर विधायक शैलेश पांडे ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रति आभार जताते हुए कहा है कि अब पार्षदों के द्वारा कामकाज में कसावट आएगी तथा पार्षद निधि बढ़ाए जाने से वादों में अब पार्षद काम भी करा सकेंगे विधायक शैलेश पांडे ने विधानसभा में पार्षद निधि बनाने का प्रस्ताव रखा था और कहा था कि जिस प्रकार जिला पंचायत जनपद पंचायतों में सदस्यों के मानदेय में प्रदेश सरकार ने बढ़ोतरी की है उसी तरह महापौर सभापति नगर पालिका नगर पंचायत अध्यक्षों एवं पार्षदों का भी मानदेय बढ़ाने का की मांग सदन में रखी थी साथ ही पार्षद निधि बढ़ाने की भी मांग मुख्यमंत्री से की थी विधायक शैलेश पांडे ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नगरी प्रशासन मंत्री श्री डेहरिया एवं जिले के प्रभारी मंत्री के प्रति आभार जताते हुए कहा है कि अब हमारे शहर के 70 वार्डों में खासकर बिलासपुर विधानसभा क्षेत्र के 38 वार्डों में पार्षद निधि से मूलभूत समस्याओं का निराकरण भी होगा एवं जनता के सामने अब पार्षद विकास काम भी दिखा सकेंगे पार्षदों के मानदेय बढ़ने से पार्षद भी बेहद खुश हैं विधायक शैलेश पांडे ने कहा है कि अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पार्षदों में उर्जा भर्ती है दलगत राजनीति से हटकर अब सभी पार्षदों को मान बढ़ा हुआ मानदेय भी मिलेगा एवं पार्षद निधि से सभी वार्डों में समान रूप से काम होंगे उन्होंने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने जनप्रतिनिधियों का सम्मान करते हुए बड़ा फैसला लिया है भाजपा शासनकाल में पार्षदों का मानदेय नहीं बढ़ाया गया था पिछले 10 साल से नगर निकायों के पार्षद मानदेय बढ़ाने तथा पार्षद निधि बढ़ाने की मांग कर रहे थे लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जनप्रतिनिधियों की भावनाओं का सम्मान करते हुए तथा शहरी क्षेत्रों में वार्ड में विकास कार्य कराने के लिए मानदेय तथा पार्षद निधि बढ़ाने का फैसला लिया जो जनता के हित में हाय तथा सभी दलों के जनप्रतिनिधियों का सम्मान भी है

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button