बिलासपुर

छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परंपरा से जुड़े हुए खेलों का संगम है छत्तीसगढ़िया ओलंपिक : अंकित गौरहा

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर। छत्तीसगढ़ राज्य के लोक खेलों को नई पहचान एवं मंच देने के उद्देश्य से आयोजित छत्तीसगढ़िया ओलंपिक के दूसरे दिन गिल्ली डंडा एवं बांटी के खेल का आयोजन किया गया। जिसमें बिलासपुर जिले के चार विकासखंडों एवं एक नगर निगम के सभी आयु वर्ग के प्रतिभागी सम्मिलित हुए।

Advertisement

इस आयोजन के विजयी खिलाडियों को पुरस्कार वितरण करने मुख्य अतिथि के रूप में बिलासपुर जिला पंचायत के सभापति अंकित गौरहा पहुंचे।उन्होंने विजेता खिलाड़ियों को पुरस्कार वितरण कर उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़िया ओलंपिक छत्तीसगढ़ के संस्कृति,सभ्यता और परंपरा से जुड़े हुए खेलों का संगम है और ऐसे आयोजन से छत्तीसगढ़ के युवाओं को अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने के लिए एक मंच मिला है जो छत्तीसगढ़ राज्य सरकार का एक सराहनीय प्रयास है।

Advertisement


इस कार्यक्रम में धर्मेंद्र शास्त्री, सहायक संचालक खेल विभाग ए.एक्का,प्रशिक्षक सुशील मिश्रा,स्कूल शिक्षा विभाग से जिला क्रीडा अधिकारी प्रभात गुप्ते,खेल अधिकारी सुशील अमलेश, वरिष्ठ प्रशिक्षक दिल कुमार राठौर,उपस्थित रहें।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button