छत्तीसगढ़

कर्नाटक में भाजपा को लगेंगे और झटके, कई विधायकों को तोड़ने की तैयारी में कांग्रेस……

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के मुकाबले हार झेलनी वाली भाजपा को राज्य में कुछ और झटके लग सकते हैं। सूबे के राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि अगले कुछ दिनों में भाजपा के कई विधायक कांग्रेस खेमे में जा सकते हैं।

Advertisement

इसे लेकर कांग्रेस में काफी उत्साह है क्योंकि अगले साल लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और उससे पहले बेंगलुरु नगर निगम के भी चुनाव हैं। पाला बदलने को तैयार विधायकों में से ज्यादातर ऐसे हैं, जो 2019 में कांग्रेस से ही टूटकर भाजपा में गए थे। इसके चलते कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन वाली सरकार ही गिर गई थी। 

Advertisement

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि इन विधायकों को पार्टी चरणबद्ध तरीके से लेगी ताकि धीरे-धीरे एक माहौल तैयार किया जा सके। यशवंतपुर विधानसभा से भाजपा विधायक एस.टी सोमशेखर के एक बयान से भी ऐसी चर्चाएं जोर पकड़ रही हैं।

पूर्व सहकारिता मंत्री डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार के साथ कुछ दिन पहले देखे गए थे। यह मौका केम्पेगौड़ा एयरपोर्ट के लेआउट के निरीक्षण का था। इस मौके पर बोलते हुए सोमशेखर ने डीके शिवकुमार को अपना गुरु बताया था। उन्होंने कहा था कि डीके शिवकुमार मेरे लिए गुरु रहे हैं और उन्होंने सहकारिता क्षेत्र में आगे बढ़ने में मुझे मदद की थी।

सोमशेखर ने 2019 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। उनके अलावा 14 और कांग्रेसी विधायक एवं तीन जेडीएस विधायकों ने भी गठबंधन सरकार से इस्तीफा दे दिया था।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि सोमशेखर के अलावा शिवराम हेब्बर, बी. बसवराजू और के. गोपालैय्या समेत कई और विधायक भी भाजपा छोड़ सकते हैं। गोपालैय्या को छोड़कर बाकी सभी विधायक कांग्रेस में ही थे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि इन विधायकों की सीएम सिद्धारमैया और डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार से बात हो चुकी है। डीके शिवकुमार कर्नाटक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। 

होम मिनिस्टर बोले- पहले भी तो काम कर चुके हैं सोमशेखर

Advertisement

इन चर्चाओं के बीच होम मिनिस्टर जी. परमेश्वर ने कहा कि जो लोग कांग्रेस में आना चाहते हैं, वे पहले भी पार्टी के लिए काम कर चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘सोमशेखर तो बेंगलुरु शहरी जिले के अध्यक्ष भी रह चुके हैं, जब मैं प्रदेश अध्यक्ष हुआ करता था। वह तीन बार विधायक रह चुके हैं और पार्टी में बने रहते तो आज मंत्री पद पर होते।’ उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी के नेता सोमशेखर की वापसी का विरोध नहीं करेंगे। एक और विधायक मुनिरत्न के भी कांग्रेस में एंट्री करने की चर्चाएं हैं। हालांकि उन्हें कांग्रेस ने विधायकी छोड़ने को कहा है, जिस पर वह राजी नहीं दिख रहे हैं। वह निर्वाचित विधायक रहने की बजाय एमएलसी नहीं बनना चाहते।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button