देश

क्या सांड भेजकर अखिलेश यादव का कार्यक्रम फेल कर रहे हैं योगी आदित्यनाथ..? सपा सुप्रीमो का आरोप

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को सीएम योगी पर बड़ा आरोप लगाया। अखिलेश यादव ने कहा कि फतेहपुर से बांदा जाते समय मेरा काफिला रोकने और कार्यक्रम को फेल करने के लिए सांड़ छोड़े गए।

Advertisement

अखिलेश ने सीधे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर अपने लोगों और डीएम से सांड़ छोड़ने का आरोप लगाया। अखिलेश ने कहा कि फतेहपुर से बांदा तक हम न जाने कितनी जगहों पर सांड़ों से टकराने से बचे हैं। हमारी गाड़ी और हमरा काफिला बाजारों में भी सांड़ों से टकराते हुए बचा है।

Advertisement

अखिलेश ने कहा कि बीजेपी के लोगों ने सांड़ छोड़े थे। बीजेपी वाले चाहते थे कि हमारे लोहिया वाहिनी के लड़कों को चोट पहुंचे, उन्हें नुकसान हो जाए। वह चाहते थे कि हमारा कार्यक्रम फेल हो जाए और हमारा रथ रुक जाए।अखिलेश ने कहा कि आपको वीडियो भी दिया जाएगा। किस तरह से भाजपा ने और यहां के डीएम ने मुख्यमंत्री के इशारे पर सांड़ सड़कों पर भेजे थे ताकि हमारा कार्यक्रम फेल हो जाए।

अखिलेश यादव बांदा में सपा के प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में जा रहे थे। समारोह में भी उन्होंने सांड को लेकर अधिकारियों को सलाह दे दी। अखिलेश ने अधिकारियों से कहा कि सड़क पर घूम रहे सारे नंदी (सांड) मुख्यमंत्री को ले जाकर दे दो। गोवंश संरक्षण के नाम पर करोड़ों रुपया कहां जा रहा है। प्रधानों के पास कोई काम नहीं है, सिर्फ जानवरों की रखवाली कर रहे हैं।

इससे पहले विधानसभा में भी सांड को लेकर अखिलेश और योगी के बीच तकरार हुई थी। अखिलेश ने आवारा पशुओं के मुद्दे को जोर से उठाया। उन्होंने सरकार से सवाल किया कि आप इस पर काम क्यों नहीं कर रहे है। क्या आपके पास बजट की कमी है। अगर कुछ नहीं हो सकता है तो कम से कम सांड सफारी ही बना लें।

ऐसा कोई जिला नहीं बचा जहां पर सांड़ से किसी की जान न गई होगी। संभल, मुरादाबाद, चंदौसी, मुरादाबाद, हसनपुर और कितने नाम बताऊं आपको जहां सांड़ के हमले से जान न गई हैं। सीएम योगी ने जवाब देते हुए कहा कि हम तो नंदी के रूप में उसकी पूजा करते हैं। योगी ने कहा कि इनकी परेशानी सांड से नहीं इलीगल स्लाटर हाउस बंद होने से हैं।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button