छत्तीसगढ़

नग्न प्रदर्शन मामले में भाजपा विधायक पहुंचे आसंदी के समक्ष, विस अध्यक्ष ने किया 14 विधायकों को निलंबित

(शशि कोन्हेर) : रायपुर। मंगलवार को अजा वर्ग के 29 युवकों ने नग्न प्रदर्शन किया था इस पर शून्यकाल में विपक्ष के विधायकों ने चर्चा की मांग करते हुए विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत की आसंदी तक पहुंच गए, इस पर विस अध्यक्ष ने 14 विधायकों को निलंबित कर दिया।

Advertisement

बसपा की इंदु बंजारे ने शून्य काल में कल हुए नग्न प्रदर्शन पर कहा कि सरकार को शर्म आनी चाहिए और नग्न प्रदर्शन करने वाले को निशर्त रिहाई की जाए। भाजपा के शिवरतन शर्मा, बृजमोहन अग्रवाल, धरमलाल कौशिक ने इसका समर्थन किया। उन्होंने कहा कि पूरा छत्तीसगढ़ शर्मसार है, सरकार की अकर्मण्यता की पराकाष्ठा है। दोषी किसी भी अधिकारी पर कार्रवाई नहीं की गई है और युवकों को जेल में डाल दिया गया। अजय चंद्रकार ने कहा कि चेतावनी देने के बाद भी सरकार नहीं जागी स्थगन ग्राह्य करें।

Advertisement

कृष्णमूर्ति बांधी ने कहा कि यह अजा वर्ग के युवकों को कुचलने का प्रयास है। धर्मजीत सिंह ने कहा है कि इस स्थिति के लिए जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए। जनता का हंटर उल्टा पड़ेगा तो कोई नहीं बचेगा। इन युवकों को नि शर्त रिहाई की जाए। पूर्व सीएम रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल ने अपनी बात रखी। सत्ता पक्ष के विधायकों ने शोरमचाया।

Advertisement

इस पर उपाध्यक्ष संतराम नेताम ने 5 मिनट के लिए सदन की कार्रवाई स्थगित कर दिया। पुन: कार्रवाई शुरू होने पर इस मामले में एक बार फिर हंगामा शुरु हो गया और चंदेल ने कहा कि कुल 1000 प्रकरण है अब तक कार्रवाई नहीं करने के लिए सीएम को इस्तीफा देना चाहिए। इस पर गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने वक्तव्य दिया। इसे नामंजूर करते हुए चंदेल, अग्रवाल ने कहा कि यह ठोस बयान नहीं है, दोषियों पर कार्रवाई नहीं की गई है। यह कहते हुए भाजपा के विधायक और प्रमोद शर्मा सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए स्पीकर महंत की आसंदी के समक्ष जा पहुंचे। डॉ. महंत ने स्थगन अग्राह्य करते हुए सभी 14 विधायकों को निलंबित कर बाहर जाने कहा। विधायकों के बाहर जाने के बाद अध्यक्ष महंत ने सभी का निलंबन खत्म कर दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button