छत्तीसगढ़

राहुल गांधी के खिलाफ क्यों उतरे देशभर के प्रमुख मंदिरों के पुजारी.. किसी ने इसे पुजारियों का अपमान कहा…तो किसी ने कहा…माफी मांगें

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : भारत जोड़ो यात्रा पर निकले राहुल गांधी अपने एक बयान को लेकर घिर गए हैं। उन्होंने रविवार को कहा था कि यह देश पुजारियों का नहीं बल्कि तपस्वियों का है। इस पर कई पुजारियों ने आपत्ति जताई है और आरोप लगाया कि राहुल गांधी ने अपने बयान से उन लोगों का अपमान किया है, जो पूजा करने में जुटे हैं। राहुल गांधी ने हरियाणा में कहा था कि कांग्रेस तपस्या में भरोसा करती है, जबकि भाजपा पूजा में विश्वास रखती है। उन्होंने कहा था कि भाजपा और आरएसएस वाले लोगों को मजबूर करते हैं कि वे उनकी पूजा करें। लेकिन भारत पूजारियों का नहीं बल्कि तपस्वियों का देश है।

Advertisement

उनके इस बयान को लेकर युवा तीर्थ पुरोहित महासभा से जुड़े उज्ज्वल पंडित ने कहा कि राहुल गांधी ने भारत की सनातन परंपरा का अपमान किया है। इस परंपरा में पुजारियों की अहम योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि इससे यह साफ हो गया है कि राहुल गांधी सिर्फ दिखावे के लिए तिलक लगाते हैं और जनेऊ धारण करते हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का बयान ब्राह्मणों का अपमान करने वाला है। स्वामी दीपांकर ने कहा कि राहुल गांधी ने मोहब्बत की दुकान खोलने की बात कही थी, लेकिन वह नफरत की बातें करने लगे हैं।

Advertisement

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को इस तरह की बात करने से पहले सोचना चाहिए था। एक तरफ वह लोगों को एकजुट करने की बात कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ इस तरह के बयान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि क्या राहुल गांधी के मुताबिक पुजारियों को समुद्र में फेंक देना चाहिए। दीपांकर ने कहा कि उन्होंने इतनी बड़ी यात्रा निकाली। लेकिन मैं हैरान हूं कि ऐसा बयान राहुल गांधी ने दिया है।

गंगोत्री धाम के रजनीकांत सेमवाल ने कहा कि सनातन धर्म में पुजारियों की अहम भूमिका रही है। प्राचीन परंपरा को पुजारी ही आगे बढ़ाते रहे हैं। राहुल गांधी को इस परंपरा का अध्ययन करना चाहिए। यूपी में प्रयागराज समेत कई जगहों पर पुजारियों ने राहुल गांधी के खिलाफ प्रदर्शन भी किए हैं। वहीं बाबा बैद्यनाथ के धाम देवघर के पुजारियों ने कहा कि राहुल गांधी को अपने बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button