छत्तीसगढ़

भोपाल का नाम भोजपाल क्यों नहीं हो सकता,युवाओं को राम के पथ पर चलने की जरूरत- रामभद्राचार्य महाराज

(शशि कोन्हेर) : भोपाल : भोपाल का नाम बदलने के मुद्दे पर रामभद्राचार्य महाराज ने कहा कि पुराने समय में मुसलमानों ने अपने हिसाब से शहर, कस्बों का नाम रख लिया था। जब फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या हो सकता है। इलाहाबाद को बदलकर प्रयागराज किया जा सकता है, तो भोपाल का नाम भोजपाल क्यों नहीं हो सकता।

Advertisement

भोपाल का तो कोई अर्थ भी नहीं होता। जब तक भोपाल का नाम भोजपाल नहीं होता, तब तक अगली कथा करने नहीं आऊंगा। भोजपाल नगरी के राजा भोज पालक थे। उन्होने सीएम से कहा कि चुनाव से पहले वे भोपाल का नाम बदल लें। वर्तमान में वह भेल दशहरा मैदान में नौ दिवसीय श्रीराम कथा का वाचन करने राजधानी भोपाल पधारे हैं। कथा 31 जनवरी तक चलेगी।

Advertisement


रामभद्राचार्य महाराज ने कथा के दौरान युवाओं को सही दिशा और मार्गदर्शन देने की बात कहते हुए महाराज ने कहा कि लव जिहाद के नाम पर हिंदू लड़कियों को फंसाया जा रहा है। युवाओं को सही दिशा और मार्गदर्शन नहीं मिल रहा है। युवाओं को राम के पथ पर चलने की जरूरत है। किसी को चेहरे से नहीं अपने चरित्र से प्रभावित करो।

Advertisement


मैं जो बात कहता हूं पूरे दम से जिम्मेदारी के साथ कहता हूं और वह पूरी होती है। मैंने कहा था कि रामजन्म भूमि का फैसला हमारे पक्ष में आएगा। कश्मीर से धारा 370 हटी, तीन तलाक खत्म हो गया। पीओके दुनिया के नक्शे से समाप्त होना चाहिए, यह हमारा है और उसे हम लेकर रहेंगे। जिसको राष्ट्र की पूरी अखंडता चाहिए, वही हमारी कथा में आए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button