देश

जहां राजा अंधा होता है, वहां द्रौपदी का चीरहरण होता है….अधीर रंजन के बयान पर भड़के शाह

Advertisement


(शशि कोन्हेर) : अविश्वास प्रस्ताव पर लोकसभा में गुरुवार को हंगामेदार सदन में कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी ने सरकार पर पर निशाना साधा है। अधीर रंजन चौधरी ने अपने भाषण के दौरान मणिपुर में हुए हिंसा का मुद्दा उठाया है। अपने भाषण में अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “पीएम को सम्मान के साथ ये कहना चाहता हूं कि देखिए प्रधानमंत्री जी आप एक बार नहीं 100 बार पीएम बने हमें कोई फर्क नहीं पड़ता।

Advertisement

इसमें हमें कोई लेना देना नहीं। हमें लेना देना भारत की आम जनता के साथ। जब मैं मणिपुर गया तो वहां की दशा मैंने देखी। वहां की दशा देखने के बाद मुझे यह महसूस हुआ कि देश का सबसे बड़ा मुखिया होने के नाते पीएम को एक बार मणिपुर के वासियों के लिए एक बार कुछ संदेश देना चाहिए।”

Advertisement

अविश्वास प्रस्ताव के दौरान अपने भाषण में अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “मुझे एक बार बोलने का इच्छा हो रहा है कि जब राजा अंधा होते हैं, धृतराष्ट्र जब अंधे थे उस वक्त द्रौपदी का चीरहरण हुआ था। आज भी राजा अंधे बैठे हैं, इसलिए द्रौपदी का चीरहरण हो रहा है। चाहे वो हस्तिनापुर में हो या मणिपुर में हो।”

Advertisement

अधीर रंजन चौधरी ने पीएम मोदी की तुलना नीरव मोदी से करते हुए कहा, “करोड़ों रुपया लूटकर नीरव मोदी भाग गया। कोई उसे पकड़ नहीं सका। सरकार में इतनी ताकत नहीं कि उसे पकड़ सके। तो मैंने सोचा की नीरव मोदी हमेशा के लिए भारत की चंगुल से बाहर चला गया। लेकिन अब पता चला कि नीरव मोदी दूर नहीं गए। मणिपुर की घटना देखने के बाद ये पता चला कि नीरव मोदी हिन्दुस्तान में ही हैं। नरेंद्र मोदी, नीरव मोदी बनकर हिन्दुस्तान में अभी भी चुप्पी साधे हुए है।”

Advertisement

बता दें अधीर रंजन चौधरी के इस बयान के बाद लोकसभा में पक्ष के नेता खड़े हो गए और एक सुर में अधीर रंजन का विरोध करते नजर आए। गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी सांसद प्रह्लाद जोशी ने इसका कड़ा विरोध किया और इसके लिए अधीर रंजन चौधरी को माफी मांगने के लिए कहा।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button