खेल

शाबास… लड़कियों.. भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने जीता एशिया कप का खिताब… चार बार की चैंपियन साउथ कोरिया को 2-1 से हराया

(शशि कोन्हेर) : नई दिल्ली। क्रिकेट के पीछे पागलपन की हद तक दीवानगी के कारण देश में दूसरे खेलों का विकास हर तरह से अवरुद्ध हो रहा है। ‌ भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल नहीं होने वाले आईपीएल खिलाड़ी को भी उतनी प्रसिद्धि मिल जाती है जितनी देश की हॉकी टीम अथवा एथलेटिक में स्वर्ण पदक या कांस्य पदक लाने वाले खिलाड़ी को नसीब नहीं होती। ऐसा ही कुछ 11 जून को हुआ। जब भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने चार बार की चैंपियन साउथ कोरिया को 2-1 से हराकर एशिया कप का खिताब जीत लिया। यह कहना गलत नहीं होगा कि साउथ कोरिया पर इस जीत से भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने इतिहास रच दिया है। टीम ने पहली बार एशिया कप का खिताब अपने नाम किया है। जापान के काकामीगहारा में खेले गए महिला जूनियर एशिया कप 2023 के फाइनल मुकाबले में रविवार को महिला टीम ने 4 बार की चैंपियन साउथ कोरिया को 2-1 से हरा दिया। भारत के लिए अन्नू (22वें मिनट) और नीलम (41वें मिनट) ने गोल किया। वहीं विपक्षी टीम की ओर से एकमात्र गोल सियोन पार्क (25वें मिनट) ने किया। इसी के साथ भारतीय टीम ने चिली में खेले जाने वाले एफआईएच महिला जूनियर विश्व कप 2023 में अपना स्थान पक्का किया। भारतीय टीम की मुमताज खान ने पूरी प्रतियोगिता में छह गोल किए और सर्वाधिक गोल करने वालों की सूची में वह तीसरे स्थान पर रहीं।

Advertisement

फाइनल मुकाबले की बात करें तो खेल के पहले 20 मिनट में कोई गोल नहीं हुआ। 22वें मिनट में भारत की अन्नू ने गोल करके टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। हालांकि भारतीय टीम की बढ़त ज्यादा देर तक नहीं रही। 25वें मिनट पर कोरिया के लिए सियोन पार्क ने गोल करके स्कोर को 1-1 से बराबर कर दिया।

Advertisement

दूसरे हॉफ में 41वें मिनट में नीलम ने गोल करके भारत को 2-1 की बढ़त दिला दी। खेल समाप्त होने तक भारत 2-1 से आगे रहा और मुकाबला अपने नाम कर लिया। इसी साथ महिला टीम एशिया चैंपियन बन गई। यह टूर्नामेंट का 8वां सीजन है। भारत खिताब जीतने वाला तीसरा देश है। साउथ कोरिया ने सबसे अधिक 4 बार, चीन ने 3 बार टूर्नामेंट पर कब्जा किया है। इस बार यह टूर्नामेंट 3 से 11 जून तक खेला गया।

Advertisement

खिलाड़ियों को पुरस्कार देने की घोषणा

Advertisement

एशिया कप जीतने पर हॉकी इंडिया कार्यकारी बोर्ड ने प्रत्येक खिलाड़ी के लिए दो लाख रुपये का नकद पुरस्कार देने की घोषणा की। वहीं सहयोगी स्टाफ को प्रशंसा के प्रतीक के रूप में एक लाख रुपये मिलेंगे। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष डॉ. दिलीप तिर्की ने भारतीय जूनियर महिला टीम को उनकी शानदार उपलब्धि के लिए बधाई दी।

Advertisement

एक बयान में तिर्की ने कहा कि हम बेहद गर्व से भरे हुए हैं। भारतीय जूनियर महिला टीम ने अपना पहला जूनियर एशिया कप जीत लिया है। प्रतिभा और दृढ़ संकल्प का उनका असाधारण प्रदर्शन वास्तव में आशाजनक रहा है। इस जीत ने उनकी स्थिति को मजबूत किया है। मुझे विश्वास है कि यह इस साल के अंत में होने वाले जूनियर विश्व कप में उनकी आगामी चुनौती के लिए एक मजबूत नींव के रूप में काम करेगा।

उन्होंने कहा कि उनकी उत्कृष्ट उपलब्धि को पहचानने के लिए हॉकी इंडिया ने खिलाड़ियों को नकद पुरस्कार से सम्मानित करने का फैसला किया है। मैं टीम और समर्पित सपोर्ट स्टाफ को देश का नाम रोशन करने में उनके अटूट प्रयासों के लिए हार्दिक बधाई देता हूं।

हॉकी इंडिया के महासचिव भोला नाथ सिंह ने टीम को शुभकामनाएं दीं। उन्होंने अपने बयान में कहा कि प्रत्येक मैच में टीम ने लगातार उल्लेखनीय प्रदर्शन किया। जूनियर एशिया कप में टीम की निरंतर जीत दर्शाती है कि भारत में हॉकी का भविष्य सुरक्षित हाथों में है। भारतीय टीम को अपना पहला महिला जूनियर एशिया कप जीतने में मदद करने के लिए टीम और समर्पित सपोर्ट स्टाफ को उनके अटूट प्रयासों के लिए हार्दिक बधाई देता हूं।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button