Uncategorized

योगी के हमशक्ल सपा के प्रचारक सुरेश ठाकुर की मौत, अखिलेश बोले-

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : सीएम योगी के हमशक्ल और सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ दिखाई देने वाले सपा के प्रचारक सुरेश कुमार वर्मा योद्धा की शुक्रवार को मौत हो गई। पिछले हफ्ते गांव में हुई मारपीट में घायल होने के बाद से उनका इलाज चल रहा था। अखिलेश यादव ने सुरेश की मौत पर सरकार को घेरते हुए कहा कि उनकी पीट-पीटकर हत्या कर दी गई है।

Advertisement

अखिलेश ने ट्वीट से दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की योगी सरकार मांग भी की। पुलिस पहले हार्ट अटैक से मौत बता रही थी। अखिलेश यादव के ट्वीट के बाद गैरइरादन हत्या में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सुरेश कुमार अक्सर सपा का प्रचार करते दिखाई देते थे। अखिलेश के चार्टर्ड विमानों में भी वह कई बार दिखाई दिए हैं।

Advertisement

सुरेश की 27/28 जुलाई की रात कुछ लोगों से मारपीट हुई थी। इसके बाद से उनका इलाज चल रहा था। गुरुवार शाम हालत बिगड़ने पर पत्नी सरिता वर्मा जिला अस्पताल लेकर पहुंचीं। डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। सरिता ने बताया कि 27 जुलाई को पुलिस चौकी का वीडियो बनाने पर पड़ोसियों ने मारपीट कर दी थी। 28 जुलाई की सुबह बाइक से लौटते समय फिर पीटा।

रिपोर्ट दर्ज कराने थाने गई तो पुलिस ने सुलह का दबाव बनाया। उसने सुलह नहीं की और पति का इलाज कराया। एसओ अवधेश सिंह ने बताया कि मारपीट नहीं कहासुनी हुई थी। उसके बाद प्रेम शंकर व देशराज पासी नेएससीएसटी एक्ट के तहत क्रॉस केस दर्ज करने को तहरीर दी गई थी। दोनों पक्षों 107(16) की कार्रवाई की गई थी।

वहीं, अखिलेश यादव ने ट्वीट करके लिखा कि सपा के प्रचारक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले सुरेश ठाकुर की पीट-पीट कर हत्या की घटना अत्यंत हृदय विदारक है। सरकार से अपील है कि वह जल्द से जल्द दोषियों के खिलाफ उचित कार्यवाही सुनिश्चित करे। भावभीनी श्रद्धांजलि।

सपा नेताओं ने परिजनों को बंधाया ढांढस
सपा अध्यक्ष व पूर्व सीएम अखिलेश यादव के के साथ मंचों पर दिखने वाले भगवाधारी सुरेश कुमार योद्धा की मौत की खबर मिलने पर सपा जिलाध्यक्ष राजेश यादव कार्यकर्ताओं के साथ पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे और सुरेश के परिजनों व पत्नी सरिता से मिलकर ढांढस बंधाया। पूर्व सीएम अखिलेश यादव से फोन पर सरिता से बात कराई।

पूर्व सीएम ने परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि सुरेश का पार्टी में योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता। उधर, सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने शोक व्यक्त किया और पुरवा पूर्व विधायक उदयराज यादव, संजय विद्यार्थी, विनोद सविता, रितेश साहू, राजेश यादव, अरुण सविता, सीएल यादव आदि ने गांव पहुंच कर परिजन व गांव वालों से बातचीत कर मदद का आश्वासन दिया।

Advertisement

बेटे के साथ कानपुर में रहती थी पत्नी
सुरेश की पत्नी सरिता वर्मा कानपुर उद्योग निदेशालय में अपर सांख्यिकी अधिकारी हैं। सरिता बेटे अंश के साथ कानपुर के थाना सुजातगंज के रामदेवी में रहती हैं। शनिवार और रविवार को गांव में रहती थीं। सरिता ने बताया कि सुरेश लखनऊ आम्बेडकर पार्क में ऑपरेटर थे और कर्मियों के नेता भी थे। कर्मियों की मांगों को लेकर धरना देने से अफसर नाराज थे और बिना बताए टर्मिनेट कर दिया था।

Advertisement

नेतागिरी बंद करने की देती रहती थी सलाह
सरिता ने बताया कि वह सुरेश को नेतागिरी बंद करने को हमेशा कहती थी, वरना कभी कुछ भी हो सकता है। बताया कि सुरेश पिछले विधान सभा चुनाव में पूर्व सीएम अखिलेश यादव के साथ प्रचार प्रसार किया करते थे। सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार के आने के बाद वह भगवाधारी वस्त्र भी धारण कर कई नेताओं के संपर्क में आ गए थे। दावा किया जाता था कि सुरेश की शक्ल सीएम योगी से कुछ-कुछ मिलती थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button