छत्तीसगढ़

भारत में गूंजे इजरायल मुर्दाबाद के नारे, दिल्ली, यूपी और कश्मीर समेत कई राज्यों में हाई अलर्ट…

Advertisement

इजरायल और हमास के बीच जारी युद्ध के बीच भारत में भी इससे जुड़ी नारेबाजी होने लगी है। शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के बडगाम में इजरायल और अमेरिका विरोधी नारे लगे। यह नारेबाजी जुमे की नमाज के बाद हुई। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग जुटे हुए थे।

Advertisement

लोगों ने अपने हाथों में तख्तियां भी उठा रखी थीं, जिन पर इजरायल और अमेरिका के खिलाफ नारों के अलावा धार्मिक नारे भी लिखे हुए थे। इस नारेबाजी के बाद भारत में सतर्कता बरती जा रही है। दिल्ली, उत्तर प्रदेश और कश्मीर समेत कई राज्यों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है।

Advertisement

इजरायल के साथ है भारत का समर्थन
गौरतलब है कि हमास द्वारा किए गए हमले के बाद से भारत ने लगातार अपना समर्थन इजरायल को दिया है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमले के बाद बयान जारी करते हुए कहा था कि इस दुख की घड़ी में भारत पूरी तरह से इजरायल के साथ है।

वहीं, मंगलवार को इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने पीएम मोदी को फोन किया था औ उन्हें ताजा हालात के बारे में जानकारी दी थी। पीएम मोदी ने इसके बारे में सोशल मीडिया साइट एक्स पर लिखा था और एक बार फिर अपना समर्थन इजरायल के प्रति जताया था।

हमास ने किया यह दावा
बता दें कि इजरायल और हमास का युद्ध और ज्यादा गंभीर हो गया है। वहीं, इजरायल से जारी युद्ध के बीच हमास ने कहा कि गाजा पट्टी पर इजराइल की ओर से की गई भारी बमबारी में 13 बंधकों की मौत हो गई, जिनमें विदेशी भी शामिल हैं।

हमास की सैन्य शाखा ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि पिछले 24 घंटों में विभिन्न स्थानों पर 13 लोगों की जान गई है। जो विदेशी मारे गए वह किस देश के थे, इस बारे में पता नहीं चल पाया है। इस बारे में इजराइल की ओर से कोई पुष्टि नहीं की गई है।

इजरायल ने की हमास से यह मांग
इससे पहले इजरायल ने गुरुवार को कहा था कि जब तक हमास आतंकी 150 बंधकों को मुक्त नहीं कर देते तब तक गाजा में किसी भी चीज की अनुमति नहीं मिलेगी। फिलस्तीनी लोग घटती आपूर्ति के बीच आवश्यक सामान जमा करने की कोशिश कर रहे हैं।

Advertisement

इजराइल द्वारा गाजा के 23 लाख लोगों को भोजन, पानी, ईंधन तथा बिजली की आपूर्ति रोकने और मिस्र से आपूर्ति के आने को प्रतिबंधित करने के बाद अंतरराष्ट्रीय सहायता समूहों ने बिगड़ते मानवीय संकट की चेतावनी दी है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button