Uncategorized

अब ईसाइयों पर कहर बरपा रहे पाकिस्तानी, कई चर्च किए आग के हवाले…..

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : अल्पसंख्यक हिंदुओं के अलावा ईसाई भी पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं हैं। हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ के साथ अब उपद्रवियों के निशाने पर ईसाई चर्च हैं। अधिकारियों ने बताया कि ईशनिंदा के आरोप में बुधवार को फैसलाबाद की जरनवाला तहसील में कई चर्चों में तोड़फोड़ की गई।

Advertisement

जरनवाला तहसील के पादरी इमरान भट्टी ने बताया कि ईसा नगरी इलाके में स्थित साल्वेशन आर्मी चर्च, यूनाइटेड प्रेस्बिटेरियन चर्च, एलाइड फाउंडेशन चर्च और शहरूनवाला चर्च में तोड़फोड़ की गई। उन्होंने कहा कि ईशनिंदा के आरोपी ईसाई सफाईकर्मी का घर भी तोड़ दिया गया।

Advertisement

आरोपी के खिलाफ पाकिस्तान दंड संहिता की धारा 295बी (पवित्र कुरान को अपवित्र करना आदि) और 295सी (पवित्र पैगंबर के संबंध में अपमानजनक टिप्पणियों का उपयोग आदि) के तहत एफआईआर दर्ज की गई है।

पंजाब पुलिस प्रमुख उस्मान अनवर ने कहा कि पुलिस प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत कर रही है और इलाके की घेराबंदी कर दी गई है। उन्होंने कहा, “(क्षेत्र में) संकरी गलियां हैं जिनमें दो से तीन मरला के छोटे चर्च स्थित हैं और एक मुख्य चर्च है…

उन्होंने चर्च के कुछ हिस्सों में तोड़फोड़ की है।” अधिकारी ने कहा कि शांति समितियों के साथ मिलकर स्थिति को नियंत्रित करने के प्रयास जारी हैं और पूरे प्रांत में पुलिस को सक्रिय कर दिया गया है।

अनवर ने कहा, “क्षेत्र के सहायक आयुक्त भी ईसाई समुदाय के सदस्य हैं। उनको भी वहां से हटा दिया गया है क्योंकि लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है।” उधर, ईसाई नेताओं का आरोप है कि पुलिस मूकदर्शक बनी रही। पंजाब गृह विभाग के प्रवक्ता अमजद कलियार ने पुष्टि की कि क्षेत्र में रेंजरों की तैनाती का अनुरोध विभाग को भेजा गया है।

लेकिन इस पर निर्णय लिया जाना बाकी है। इससे पहले ट्विटर (एक्स) पर चर्च ऑफ पाकिस्तान के अध्यक्ष बिशप आजाद मार्शल ने कहा था कि बाइबिल का अपमान किया गया है और ईसाइयों पर “पवित्र कुरान का उल्लंघन करने का झूठा आरोप लगाया गया है” और उन्हें प्रताड़ित किया गया है।

Advertisement

उन्होंने मांग करते हुए कहा, “हम कानून प्रवर्तन और न्याय प्रदान करने वालों से न्याय और कार्रवाई की मांग करते हैं। सभी नागरिकों की सुरक्षा के लिए तुरंत हस्तक्षेप करें और हमें आश्वस्त करें कि हमारी अपनी मातृभूमि में हमारा जीवन मूल्यवान है जिसने अभी-अभी स्वतंत्रता और आजादी का जश्न मनाया है।” बिशप मार्शल ने कहा कि सभी पादरी, बिशप और आम लोग इस घटना से “गहरा दुख और व्यथित” थे।

Advertisement

पूर्व सीनेटर अफरासियाब खट्टक ने घटना की निंदा की और मांग की कि दोषियों को सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने लिखा, “पाकिस्तानी राज्य इस्लाम के अलावा अन्य धर्मों को मानने वाले लोगों के पूजा स्थलों को सुरक्षा प्रदान करने में विफल रहा है। धर्म के नाम पर किए गए अपराधों के लिए दंड से छूट ने चरमपंथियों और आतंकवादियों को प्रोत्साहित किया है।”

बलूचिस्तान के सीनेटर सरफराज बुगती ने भी पंजाब सरकार से चर्चों और ईसाइयों की रक्षा के लिए अपनी पूरी ताकत लगाने का आह्वान किया। उन्होंने एक्स पर कहा, “एक पाकिस्तानी के रूप में, हम जरनवाला में होने वाले पागलपन की अनुमति नहीं दे सकते। हमारे देश में अल्पसंख्यकों के प्रति हमारी जिम्मेदारी है, और हम संकट को और अधिक खराब नहीं होने दे सकते!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button