देश

कांग्रेस के लिए नया सिरदर्द? राजस्थान चुनाव से पहले सचिन पायलट उठा सकते हैं बड़ा कदम

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : राजस्थान कांग्रेस  में विवाद कम होता नहीं दिख रहा है. हाल के दिनों में सचिन पायलट द्वारा उठाए कदमों से परेशान कांग्रेस पार्टी को एक बड़ा झटका लग सकता है. सूत्रों के अनुसार पार्टी से नाराज चल रहे सचिन पायलट जल्द ही अपनी नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं.

Advertisement

खबरों के अनुसार 45 वर्षीय सचिन पायलट 11 जून को इसकी घोषणा कर सकते हैं. 11 जून को उनके पिता राजेश पायलट की पुण्यतिथि है. हालांकि उनके करीबी सूत्रों का कहना है कि पायलट अभी भी अपनी मांगों के जवाब के लिए कांग्रेस नेतृत्व की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

Advertisement

सूत्रों ने इस बात से भी इनकार किया है कि 11 जून को कोई बड़ी रैली की योजना सचिन पायलट की तरफ से बनाई जा रही है. उन्होंने कहा कि हर साल की तरह इस बार भी दौसा में पुण्यतिथि मनाने का कार्यक्रम होगा क्योंकि यह राजेश पायलट का निर्वाचन क्षेत्र था.

Advertisement

पायलट के करीबी ने अटकलों को बताया गलत

Advertisement

इधर सचिन पायलट के करीबी राज्य मंत्री मुरारी लाल मीणा ने कार्यक्रम में नई पार्टी की घोषणा को लेकर चल रहे अटकलों का खंडन किया है. मीणा ने कहा, “मुझे नहीं पता कि नई पार्टी की अटकलें कहां से शुरू हुईं. मुझे इस तरह की अटकलों में कोई दम नहीं दिखता. मैं पार्टी की विचारधारा के अनुसार काम करता हूं.”

सचिन पायलट ने वसुंधरा राजे पर कार्रवाई की मांग की थी

सचिन पायलट ने राजस्थान की अपनी ही सरकार को भाजपा की वसुंधरा राजे के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर कार्रवाई करने का अल्टीमेटम हाल के दिनों में दिया है. कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया था कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी नेता के साथ समझौते के कारण वसुंधरा राजे के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है. पायलट के आरोपों का बीजेपी ने जोरदार खंडन किया था.

पायलट कांग्रेस नेतृत्व का कर रहे हैं इंतजार

उनके अगले कदम को लेकर जारी अटकलों के बीच, उनके करीबी सूत्रों का कहना है कि वो पार्टी नेतृत्व से निश्चित प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं. सूत्रों ने दावा किया है कि पायलट का मुख्य ध्यान भ्रष्टाचार से मुकाबला करना और परीक्षा के पेपर लीक सहित युवाओं की गंभीर चिंताओं को दूर करना है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने उनके करीबी सूत्रों के हवाले से कहा है कि वह (पायलट) पार्टी नेतृत्व की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं, गेंद अभी पार्टी नेतृत्व के पाले में है.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button