देश

कोई लावारिस तो किसी शव के कई दावेदार, अपनों की पहचान के लिए DNA टेस्ट का सहारा

Advertisement

(शशि कोनहेर) : ओडिशा के बालासोर में शुक्रवार को हुए तीन ट्रेनों की टक्कर  में 275 पीड़ितों में से लगभग 100 की पहचान नहीं हो सकी है. इससे परिवारों का दुख और बढ़ गया है. परिजन अपने लापता प्रियजनों की तलाश में अस्पताल के मुर्दाघर से लेकर स्टेशन के आसपास चक्कर काट रहे हैं. सैकड़ों क्षत-विक्षत शव हैं. किसी का धड़ गायब है किसी का हाथ या पैर कटा हुआ है. कुछ शरीर के टुकड़े ऐसे हैं जिन पर कई दावा कर रहे हैं. राज्य सरकार यह तय करने में असमर्थ हो गई कि शव किसे सौंपा जाए? ऐसे में अब डीएनए टेस्ट ही इन लोगों की आखिरी उम्मीद है.

Advertisement

एक शव पर कोई परिवार कर रहे दावा
भुवनेश्वर नगर निगम के कमिश्नर विजय अमृता कुलंगे ने कहा कि शव सौंपने में देरी हो रही है, क्योंकि कुछ रिश्तेदार शव लेने आ रहे हैं, जिनका ब्लड रिलेशन नहीं है. अधिकारियों ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए डीएनए टेस्ट जरूरी है. इससे प्रक्रिया पारदर्शी रहेगी. हालांकि, भुवनेश्वर नगर निगम के कमिश्नर ने उन परिवारों के दावों की पुष्टि करने से इनकार कर दिया है जिन्होंने कहा था कि उनके प्रियजनों के शव किसी और को दे दिए गए हैं.

Advertisement

16 साल के बेटे की लाश लेने मुर्दाघर के चक्कर काट रही मां
भुवनेश्वर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में एक सदमे से गुजर रहीं मां ने कहा,  “मेरे 16 वर्षीय बेटे के शव की पहचान कर ली गई है, लेकिन अस्पताल वालों ने बताया कि शव पहले ही किसी और को सौंप दिया गया है.” वहीं, नेपाल की 30 वर्षीय मीरा देवी ने कहा, “उन्होंने मुझे बताया कि शव को कोई और ले गया है.”

Advertisement

चाचा के शव पर अन्य महिला ने किया दावा
पश्चिम बंगाल निवासी जकारिया लस्कर ने भी कहा कि उन्हें अस्पताल के अधिकारियों ने बताया है कि उनके चाचा अबू बकर लस्कर के शव पर मालदा की एक महिला ने दावा किया है. उन्होंने कहा, “वे कह रहे हैं कि मालदा की एक महिला शव को ले गई है. मुझे महिला का नाम नहीं पता.”

Advertisement

कुछ और लोगों की यही कहानी है. शेख अब्दुल गनी ने ओडिशा हादसे में अपने बेटे को खो दिया है. वह अपने छोटे बेटे के साथ भुवनेश्वर एम्स के मुर्दाघर के चक्कर काट रहे हैं. उन्होंने कहा, “अधिकारी कुछ नहीं बता रहे हैं. शव के बारे में वे कह रहे हैं कि बिहार के किसी व्यक्ति ने शव पर दावा किया है. बेटे को तो खो दिया अब उसका शव भी नहीं मिला.”
कई लोगों के लिए कभी न खत्म होने वाला इंतजार
हादसे में अपनों को खोने वाले कुछ अन्य परिवारों के लिए यह एक कभी न खत्म होने वाला इंतजार सरीखा है. पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना के गोराचंद बनर्जी अपने बेटे सुभाषीश बनर्जी के शव को लेने के लिए सोमवार से एम्स के मुर्दाघर के चक्कर काट रहे हैं. उन्हें बताया गया है कि डीएनए टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद ही शव सौंपा जाएगा.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button