छत्तीसगढ़

विधायक शैलेष पांडेय ने विधानसभा में प्रदेश के पार्षदों के मानदेय बढ़ाने की मांग मुख्यमंत्री जी और मंत्री जी से रखी

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बुधवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र में वित्तीय वर्ष 2022 23 की अनुदान मांगों पर चर्चा में डॉक्टर शिव कुमार डहरिया ने नगरीय प्रशासन विकास विभाग से संबंधित अनुदान मांगों पर चर्चा की। इस दौरान नगर विधायक शैलेष पांडेय ने सरकार के समक्ष पार्षदों के मानदेय बढ़ाने की मांग रखी। उन्होंने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्षों, उपाध्यक्षों व सदस्यों जनपद पंचायत अध्यक्षों, उपाध्यक्षों व सदस्यों, और सरपंचों एवं पंचो का भत्ता एवं मानदेय बढ़ाया गया है। विकास निधि में भी बढ़ोतरी की गई है। इस प्रकार पार्षदों का मानदेय एवं निधि बढ़ाने की मांग शासन के समक्ष रखता हूं।

Advertisement

उन्होंने आगे कहा कि विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से अंतिम पंक्ति का व्यक्ति भी लाभान्वित हुआ है।

Advertisement

धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर

नागरिकों को उचित मूल्य पर जेनेरिक दवाइयां एवं सर्जिकल सामान उपलब्ध कराने के लिए 136 श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर की स्थापना की गई है इस योजना के तहत अब तक 17 करोड़ 92 लाख बाजार मूल्य की दवाइयों पर 10 करोड़ की छूट देते हुए 5 लाख 92 हजार नागरिकों को लाभान्वित किया।

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य सहायता योजना

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत 14 नगर निगमों में 7 मोबाइल एंबुलेंस एवं दाई दीदी क्लीनिक का संचालन किया जा रहा है। योजना की सफलता को देखते हुए प्रदेश में समस्त नगर पालिका एवं नगर पंचायतों में भी लागू करने की घोषणा की गई है।

क्षेत्रीय विकास निधि में बढ़ोतरी

Advertisement

जनप्रतिनिधियों के माध्यम से स्थानीय विकास गतिविधियों के कार्यों की त्वरित स्वीकृति जाने के उद्देश्य से विधायक निधि की राशि दोगुनी कर दी गई है। जिसे 2 करोड़ से बढ़ाकर 4 करोड़ किया गया है।

Advertisement

जिला पंचायत अध्यक्षों हेतु 15 लाख उपाध्यक्ष हेतु 10 लाख एवं सदस्य हेतु 4 लाख प्रतिवर्ष के मान से जिला पंचायत विकास निधि योजना की स्वीकृति दी गई है।

जनपद पंचायत अध्यक्षों हेतु 5 लाख उपाध्यक्ष हेतु 3 लाख एवं सदस्यों हेतु 2 लाख प्रति वर्ष की निधि स्वीकृत की गई है।

जनप्रतिनिधियों के मानदेय में बढोत्तरी

जिला पंचायत, जनपद पंचायत एवं ग्राम पंचायत के प्रतिनिधिकारियों के मानदेय में भी वृद्धि की गई है, जिला पंचायत अध्यक्ष का मानदेय 15,000 से बढाकर 25,000, जिला पंचायत उपाध्यक्ष का मानदेय 10,000 से बढाकर 15,000 एवं जिला पंचायत सदस्य का मानदेय 4 हजार से बढ़ाकर 10 हजार प्रतिमाह किया गया है।

उसके साथ ही जनपद पंचायत अध्यक्ष का मानदेय 6000 से बढाकर 10,000, जनपद पंचायत उपाध्यक्ष का मानदेय 4000 से बढ़ाकर 6000 जनपद पंचायत सदस्यों का मानदेय 1500 से बढ़ाकर 5000, सरपंचों का भत्ता 2000 से बढ़ाकर 4000 एवं पंचों का भत्ता 200 से बढ़ाकर 500 कर दिया गया है।

नगर विधायक शैलेष पांडेय के द्वारा विधानसभा में नगर निगम के पार्षदों और एल्डरमैनों की निधि एवं मानदेय बढ़ाने की मांग शासन के समक्ष की गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button