देश

जानिए..शिवसेना सांसदों ने उद्धव ठाकरे को अपना गुरूर छोड़ने की क्यों दी सलाह..?

(शशि कोन्हेर) : महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे का साथ छोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बनाने में सफलता तो हासिल कर ली है, लेकिन अब नई बहस इस बात को लेकर शुरू हो गई है कि शिवसेना की कमान और सिंबल किसके पास रहेगा.

Advertisement

वैसे तो सीएम एकनाथ शिंदे गुवाहाटी में बगावत के दौरान कई बार कह चुके हैं कि वह असली शिवसेना को लीड कर रहे हैं, लेकिन फिलहाल ये लड़ाई किसी कानूनी मोड़ पर नहीं पहुंची है. इस बीच सूत्रों के हवाले से जानकारी मिल रही है कि उद्धव का साथ चुनने वाले सांसदों को अब पार्टी के अस्तित्व और सिंबल की चिंता सताने लगी है.

Advertisement

सूत्रों की मानें तो शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के 4 सांसदों ने उद्धव से अपना अभिमान छोड़कर शिंदे के साथ सुलह करने की सलाह दी है. उन्होंने कहा है कि सुलह की पूरी प्रक्रिया डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के जरिए आगे बढ़ाई जा सकती है.

Advertisement

दरअसल, जल्द ही मुंबई में बीएमसी के चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में शिवसेना के दोनों गुट एक ही चुनाव चिन्ह के साथ मैदान में उतर सकते हैं. अगर ऐसा होता है तो मामला कोर्ट में चला जाएगा और अदालत में किसी एक गुट को मुंह की खानी पड़ेगी.

बातचीत की वकालत करने वाल शिवसेना के सांसदों का मानना है कि सुलह करने में ही दोनों पक्षों की भलाई होगी. उद्धव के लिए सुलह के रास्ते को कुछ इस तरह देखा जाएगा कि शिवसेना के ब्रांड को बचाने के लिए वे आगे आए हैं. वहीं, शिंदे भविष्य में संभावित निगेटिव कानूनी परिणाम के खतरे से बच सकते हैं. हालांकि सूत्रों की मानें तो इस पर उद्धव और शिंदे क्या रुख दिखाते हैं. यह अभी स्पष्ट नहीं है. अगर इस फैसले पर सहमति बनती भी है तो समय लग सकता है.

दरअसल, देवेंद्र फडणवीस ने कल विधायकों को संबोधित करते हुए कहा था कि हम थोड़ी देर के लिए अलग हो गए, लेकिन ऐसा लगता है कि हम वापस साथ आ गए हैं. हिंदुत्व के वोटों का बंटवारा नहीं होना चाहिए. दोनों के साथ आने के कयास इसलिए भी लगाए जा रहे हैं क्योंकि 2018 में भी शिवसेना ने एक प्रस्ताव पारित किया था कि वे 2019 का चुनाव अकेले लड़ेंगे, लेकिन इसके बावजूद दोनों दलों ने आखिरकार लोकसभा और विधानसभा चुनाव के लिए गठबंधन कर लिया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button