Uncategorized

बाइबिल रखने वालों पर किम जोंग का कहर, 2 साल के बच्चे तक को भेजा जेल

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : उत्तर कोरिया में बाइबिल के साथ पकड़े गए ईसाइयों को मौत की सजा का सामना करना पड़ता है। बच्चों सहित उनके परिवारों को भी आजीवन कारावास की सजा दी जाती है। अमेरिकी विदेश विभाग की एक रिपोर्ट में यह खुलासा किया गया है। 2022 के लिए विदेश विभाग की अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता रिपोर्ट का अनुमान है कि उत्तर कोरिया में 70,000 से अधिक ईसाई व अन्य धर्मों के लोग कैद में बंद हैं।

Advertisement

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि जेल भेजे गए कई लोगों में एक दो साल का बच्चा भी था जिसे कथित तौर पर उसके माता-पिता के पास बाइबिल पाए जाने के बाद आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। परिवार को उनकी धार्मिक प्रथाओं और बाइबिल रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। दो साल के बच्चे सहित पूरे परिवार को 2009 में एक राजनीतिक जेल शिविर में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

Advertisement

इन शिविरों में कैद किए गए ईसाइयों ने गंभीर परिस्थितियों और शारीरिक दुर्व्यवहार के विभिन्न रूपों का वर्णन किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य सुरक्षा मंत्रालय शैमैनिक फॉलोअर्स और ईसाइयों दोनों के खिलाफ 90% लिखिल मानवाधिकारों के हनन के लिए जिम्मेदार था।

उत्तर कोरिया में “न्याय में तेजी लाने और उत्तरदायित्व का समर्थन करने के लिए काम कर रहे” एक गैर-लाभकारी संगठन, कोरिया फ्यूचर की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए राज्य विभाग का कहना है कि उत्तर कोरियाई सरकार उन लोगों को सताती है जो धार्मिक प्रथाओं में संलग्न हैं, धार्मिक वस्तुओं को रखते हैं, धार्मिक लोगों से संपर्क करते हैं।

सताए गए व्यक्तियों को गिरफ्तार किया जा सकता है, हिरासत में लिया जा सकता है, काम करने के लिए मजबूर किया जा सकता है, प्रताड़ित किया जा सकता है, निष्पक्ष सुनवाई से वंचित किया जा सकता है, निर्वासित किया जा सकता है, जीवन के अधिकार से वंचित किया जा सकता है, या यौन हिंसा के अधीन किया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button