छत्तीसगढ़

संजू त्रिपाठी हत्याकांड में शक की सुई उसके भाई कपिल त्रिपाठी की ओर…पुलिस कर रही तेजी से तलाश…पत्रकारों और शहर की जनता को पुलिस के खुलासे का इंतजार…!

Advertisement

(शशि कोन्हेर) :-बिलासपुर : बुधवार को सकरी थाने के पास  कांग्रेस नेता संजू तिवारी की जघन्य हत्या के मामले में पुलिस के हाथ आरोपियों की गर्दन से बस अब कुछ ही दूर दिखाई दे रहे हैं। टुकड़ो-टुकड़ों में मिल रहे सबूत साफ इशारा करने लगे हैं कि कांग्रेस नेता संजू त्रिपाठी की हत्या में किनका हांथ है..? और हत्या की वजह क्या रही होगी..? पुलिस ने मामले की तह तक जाने के लिए संजू त्रिपाठी के संदिग्ध भाई कपिल त्रिपाठी की गिरेबां तक पहुंचने के लिए दिन-रात और जमीन- आसमान एक कर दिया है। रेंज के आईजी श्री बद्रीनारायण मीणा और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रीमती पारुल माथुर तथा पुलिस अधिकारियों की कई टीमें एक साथ कई मोर्चों पर काम कर रही हैं।

Advertisement

पुलिस की टीम..कपिल त्रिपाठी के साथ ही संदिग्ध शूटरों का अता पता ढूंढने में भी अपनी पूरी ऊर्जा झोंक रही है। संजू त्रिपाठी का अपने भाई कपिल त्रिपाठी और पिता जय नारायण त्रिपाठी के साथ बेहद खराब बर्ताव होने की बात सामने आ रही है। कपिल त्रिपाठी के फार्म हाउस के पीछे मौजूद मकान के खंडहर से ऐसे बहुत से सबूत‌ पुलिस को मिले हैं.जो चीख-चीख कर कह रहे हैं कि वहां 4-5 की संख्या में संदेही ठहरे हुए थे। बहरहाल पुलिस अब कपिल त्रिपाठी को हर एक ऐसीजगह खोज रही है जहां उसके मिलने की पूरी उम्मीद है। यही नहीं बल्कि कपिल के जहां मिलने की कोई उम्मीद नहीं है।

Advertisement

वहां भी पुलिस छापेमारी कर रही है। बिलासपुर में शूटरों के जरिए इस तरह हुआ यह पहला हत्याकांड है। इस हत्याकांड ने सबको बता दिया है कि अब देश भर में फैले पेशेवर शूटरों से बिलासपुर भी अछूता नहीं रहा। और बिलासपुर शहर की जनता के भयभीत होने का यही प्रमुख कारण है। यहां के लोगों ने ऐसा हत्याकांड ना तो कभी देखा है और ना ही कभी सुना तक है।

बहरहाल, पुलिस जिस तरह इस मामले में परत दर परत आगे बढ़ती जा रही है उससे उम्मीद बंधी है कि कुछ ही घंटों के बाद इस हत्याकांड के प्रमुख किरदार तथा शूटरों का नाम सामने आ सकता है। और जहां तक प्रमुख किरदार के नाम की बात है शहर के लोग और पत्रकारों तथा पुलिस वालों के शक की सुई कपिल त्रिपाठी की ओर ही दिखाई दे रही है। हालांकि हत्या जैसे मामलों में हमें कुछ भी दावे के साथ कहने के पहले उस दिन का इंतजार करना चाहिए जब मय सबूत और आरोपियों के पुलिस मामले का पूरा खुलासा करेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button