Uncategorized

कोरोना को लेकर आईएमए की चेतावनी… लापरवाही नहीं रुकी तो तीसरी लहर होगी घातक….

Advertisement

नई दिल्ली – देश में कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी के बीच IMA ने भी बड़े खतरे की तरफ इशारा कर दिया है। देश के डॉक्टरों की शीर्ष संस्था, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने केंद्र और राज्य सरकारों से कोविड के खिलाफ जंग में कोई ‘ढिलाई’ नहीं बरतने की अपील की है। संस्था ने चेताया है कि कोरोना की तीसरी लहर करीब ही है। संस्था ने इस मुश्किल वक्त पर देश के विभिन्न स्थानों पर अधिकारियों और लोगों द्वारा कोरोना मामले में बरते जा रहे ‘आत्मसंतोष’ पर नाराजगी और दुख जताया है।

Advertisement

आईएमए ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि मेडिकल बिरादरी और राजनीतिक नेतृत्व के तमाम प्रयासों की बदौलत ही देश कोरोना महामारी की घातक दूसरी लहर से उबर पाया है, ऐसे में हमें ‘लापरवाह’ नहीं होना चाहिए। IMA की प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘उपलब्ध वैश्विक साक्ष्यों और किसी भी महामारी के इतिहास को देखते हुए कहा जा सकता है कि तीसरी लहर अपरिहार्य और करीब है। हालांकि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश में ज्यादातर हिस्सों में सरकार और लोग, ‘आत्मसंतुष्ट’ हो गए हैं और कोविड प्रोटोकॉल का पालन किए गए बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो रहे हैं।’

Advertisement

एसोसिएशन ने बयान में आगे कहा, ‘ ऐसे वक्त में जब हमें तीसरी लहर का असर कम करने को लेकर काम करना चाहिए, कई जगहों पर सरकारें और जनता कोरोना नियमों का पालन किए बिना भीड़ जुटाने पर आमादा हैं। तीर्थ यात्राएं, पर्यटन और धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन जरूरी है, लेकिन इसके लिए कुछ महीने रुका जा सकता है।’ आईएमए ने कहा, ‘इनकी इजाजत देना और लोगों को टीका लगवाए बगैर इस भीड़भाड़ में शामिल होने देना कोविड की तीसरी लहर में बड़ा योगदान दे सकता है।’

आईएमए ने कहा, जिस तरह आयोजनों को छूट दी गई है और लोगों को टीकाकरण के बिना भी बेरोकटोक बड़ी संख्या में इकट्ठे होने दिया जा रहा है। यह असल में तीसरी लहर को गति देगा। पर्यटन स्थलों पर जुटी लोगों की भीड़ में कोरोना नियमों का पालन असंभव होता दिख रहा है। यही लोग संक्रमण को पैर पसारने में मदद करेंगे और तीसरी लहर को रफ्तार देेंगे। आईएमए ने राज्यों से स्थिति की गंभीरता को समझते हुए भीड़ जुटने से रोकने की अपील की है।

आईएमए ने कहा, बीते डेढ़ वर्ष की जंग के बावजूद हुए नुकसान से हमें सीख लेनी होगी। अधिक से अधिक लोगों को टीका लगाने और कोरोना सम्मत व्यवहार का सख्ती से पालन करने से तीसरी लहर का सामना करना आसान होगा और इसका असर भी कम होगा। लेकिन अगर पर्यटन व आयोजनों की मौजूदा स्थिति पर नियंत्रण नहीं किया गया तो तीसरी लहर समय से पहले आएगी ओर अधिक तबाही मचा सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button