छत्तीसगढ़

अवैध कटाई जोरों पर वन वर्दी का पहरा नहीं

(मुन्ना पाण्डेय) : लखनपुर (सरगुजा) इन दिनों
वन परिक्षेत्र अन्तर्गत वन खंडों में अवैध कटाई जोरों पर है । जंगलों के सघनता सुन्दरता हरियाली को ग्रहण लगता जा रहा है। मदहोश वन वर्दी  को कटते जंगलों के सुध लेने की फुर्सत नहीं है। यदि बात की जाये  लखनपुर बेलदगी चांदो अलगा, घटाडुगु, सोयदा, झाल बहरा, चुराईल ढोढगा,लोसगा,  भुरकुडुवा ,घुईभवना कटिन्दा, चोडेया, तूरगा, तिरकेला ,देवभूडु बेदोपानी  खांचा कुंडा छिपनीपानी जंगलों से  साल शीशम,सागौन,खम्हार महुआ, तेंदू, सीधा, साजा, धवरा, जैसे प्रजापति के पेड़ों को काट कर जलावन बनाने ले जाया जा रहा है। 

Advertisement

इतना    ही   नहीं     क्षेत्रवासियों का कहना है कि वन अमला से सांठगांठ बना रात के अंधेरे में तस्करों द्वारा वेशकीमती इमारती लकड़ी चोरी कर ले जाया जा रहे है । ग्राम बंधा चारपारा के समीप आमापानी मुख्य मार्ग में   वनरक्षक निवास के उपर प्लांटेशन में सागौन पेड़ों की अंधाधुंध कटाई बदस्तूर जारी है। इतना ही नहीं छिपनीपानी  खांचा कुंडा जंगल जमीन पर अतिक्रमणकारियों द्वारा अवैध कब्जा करने के नजरिए से बेहिसाब पेड़ों की बलि दी जा रही है।

Advertisement

कुछ क्षेत्र वासियों ने बताया कि खांचाकुंडा जंगल में भूमिहीन लोगों को माननीय न्यायलय के आदेश पर तीन डिस्मील जमीन देने करार हुई थी परन्तु वहां निवासरत लोग मनमाने तरीके से पूरे जंगल को काट कर कब्जा कर रहे हैं दूसरे जंगलों में भी इसी तरह का नजारा है।  वन  विभाग अवैध कटाई तथा वन भूमि पर किये जा रहे कब्जा पर अंकुश लगाने में नाकामयाब रही है।
वनांचल क्षेत्र के सजग लोगों ने शासन प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराते हुए अवैध कटाई एवं जंगल जमीन पर हो रहे अतिक्रमण पर रोक लगाने की मांग किया है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button