बिलासपुर

अल्ट्रासाउंड कराना है तो अगले महीने आना… सिम्स  की अव्यवस्था से निजी क्षेत्र मालामाल

(दिलीप जगवानी) : बिलासपुर – इलाज मे देरी का प्रमुख कारण जांच रिपोर्ट का समय पर नहीं मिलना है. य़ह समस्या सिम्स मेडिकल कालेज मे कोई नई नही है. यहां अब व्यवस्था और बिगाड़ने लगी है.सोनोग्राफी कराने आए मरीजों को एक महीने बाद की तारीख दी गई है.

Advertisement

मेडिकल कालेज सिम्स में अल्ट्रासाउंड कराने के लिए लंबी वेटिंग है। रेडियोलॉजी विभाग में दोपहर 1 बजे तक ही टोकन काटा जाता है। बुधवार को टाेकन कटाने वालाें काे अगले अगले माह 27 मार्च के बाद का नंबर मिल रहा था। दरअसल, दो अल्ट्रासाउंड मशीनाें में से एक खराब हैं। सिम्स मेडिकल कॉलेज के अधिकारी इसे ठीक कराने केवल सीजी एमएससी को पत्र लिखने तक सीमित रह जाते हैं. पीछे मरीजों की वेटिंग लिस्ट बढ़ती जा रही है. रेडियोलोजी विभाग में केवल एक सोनोग्राफी मशीन से कम लिया जा रहा है इसके अलावा सिटी स्कैन एमआरआई से लेकर एक्सरे रिपोर्ट लेने भी परिजनों को काफी इंतजार करना पड़ता है. प्रबंधन कह रहा इमर्जेंसी छोड़कर बाकी को वेटिंग मे रखा जा रहा है. मशीन मे सुधार के बाद मरीजों को इतना ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

Advertisement

अभी हालात य़ह है कि सोनोग्राफी के लिए सामान्य मरीज़ को 25 दिनों बाद आने कहा जा रहा है जबकि सिम्स में रोज 30 से अधिक जांच किया जा रहा है लेकिन इकलौती मशीन फिर रिपोर्ट बनाने मे वक्त लगता है. इसलिए दर्जनों मरीज़ रोजाना निराश लौट जाते है. इससे निजी पैथोलॉजी सेंटर फल फूल रहे है.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button