छत्तीसगढ़

करोड़ों कांग्रेसियों का दिल टूटा,  बोले आचार्य प्रमोद कृष्णम..

Advertisement

(शशि कोंन्हेर) : अयोध्या में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह का न्योता ठुकराए जाने के बाद कांग्रेस नेता निराश नजर आ रहा हैं। अब पार्टी के वरिष्ठ नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम का कहना है कि इससे करोड़ों कांग्रेसियों का दिल टूटा है। खास बात है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, रायबरेली सांसद सोनिया गांधी और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने 22 जनवरी को रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में जाने से इनकार कर दिया है।

Advertisement

आचार्य कृष्णम ने कहा, ‘देखिए राम मंदिर और भगवान राम सबके हैं। राम मंदिर को भाजपा का समझना दुर्भाग्यपूर्ण है। राम मंदिर को बीजेपी का मानना दुर्भाग्यपूर्ण है। राम मंदिर को आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल का मान लेना दुर्भाग्यपूर्ण है। मुझे पूरा भरोसा है कि कांग्रेस हिंदू विरोधी पार्टी नहीं है।’

Advertisement

पार्टी के नेताओं पर ही उठाए सवाल
उन्होंने आगे कहा, ‘कांग्रेस राम विरोधी नहीं है। ये कुछ लोग हैं, जिन्होंने इस तरह का फैसला कराने में भूमिका अदा की है। ये बड़ा गंभीर विषय है। आज मेरा दिल टूट गया है। और इस फैसले से करोड़ों कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का दिल टूटा है उन कार्यकर्ताओं का, उन नेताओं का जिनकी आस्था भगवान राम में है।’

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस वो पार्टी है, जो महात्मा गांधी के रास्ते पर चलती है। कांग्रेस के ही नेता राजीव गांधी ने ही मंदिर के ताले खुलवाने का काम किया। भगवान श्रीराम के मंदिर के निमंत्रण को स्वीकार ना करना दुखद है, यह पीड़ादायक है, यह कष्टदायक है।’

इधर, गुजरात कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने भी अयोध्या नहीं जाने के फैसले की आलोचना की है। उन्होंने पार्टी को ऐसे फैसले नहीं लेने की सलाह दी है। उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘X’ पर लिखा, ‘भगवान श्री राम आराध्य देव हैं। यह देशवासियों की आस्था और विश्वास का विषय है। कांग्रेस को ऐसे राजनीतिक निर्णय से दूर रहना चाहिए था।’ साथ ही उन्होंने कांग्रेस नेता जयराम रमेश के बयान की एक कॉपी भी साझा की है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button