देश

अच्छी खबर.. सर्वाइकल कैंसर के खिलाफ..पहले स्वदेशी टीके को मिली मंजूरी

(शशि कोन्हेर) : भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने मंगलवार को सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया (एसआइआइ) को सर्वाइकल कैंसर के खिलाफ स्वदेश में विकसित वैक्सीन क्यूएचपीवी को बाजार में उतारने की मंजूरी दे दी। क्वाड्रिवैलेंट ह्यूमन पैपिलोमावायरस वैक्सीन (क्यूएचपीवी) भारत में सर्वाइकल कैंसर के खिलाफ पहला स्वदेशी टीका है।

Advertisement

कोविड-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति द्वारा 15 जून को सिफारिश मिलने के बाद डीसीजीआइ ने सीरम को मार्केटिंग की मंजूरी दी है। वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल डाटा की समीक्षा करने के बाद सरकार की सलाहकार समिति एनटागी ने भी क्यूएचपीवी को मंजूरी दे दी थी।

Advertisement

सर्वाइकल कैंसर भारत में 15-44 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं में दूसरा सबसे अधिक होने वाला कैंसर है। हर साल लाखों महिलाओं को सर्वाइकल कैंसर के साथ-साथ कुछ अन्य कैंसर का पता चलता है और इनमें मृत्यु दर भी बहुत अधिक है। सीरम इंस्टीट्यूट ने डीसीजीआइ को अपने आवेदन में कहा कि क्यूएचपीवी वैक्सीन सर्वाइकल कैंसर के खिलाफ मजबूत प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करती है।

Advertisement

साल के अंत से पहले लान्च किया जा सकता है टीका: सूत्र

समाचार एजेंसी एएनआइ के करीबी सूत्रों ने कहा, ‘उम्मीद है कि साल के अंत से पहले टीका बाजार में लान्च किया जाएगा। क्यूएचपीवी गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के खिलाफ भारत का पहला स्वदेशी टीका होगा।

पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया ने बाजार प्राधिकरण के लिए आवेदन किया है। देश में इसकी शीघ्र उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सहयोग से चरण 2/3 नैदानिक परीक्षण को पूरा करना के बाद सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया ने आवेदन किया था।

अदार पूनावाला ने जताई खुशी

सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया के सीइओ अदार पूनावाला ने ट्वीट कर यह घोषणा की। उन्होंने लिखा, ‘पहली बार, महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के इलाज के लिए एक भारतीय एचपीवी वैक्सीन उपलब्ध होगा जो कि सस्ती और सुलभ दोनों है। हम इसे इस साल के अंत में लान्च करने के लिए उत्सुक हैं और हम डीसीजीआई, MoHFW_INDIA को आज मंजूरी देने के लिए धन्यवाद देते हैं।’

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button