देश

कड़कनाथ मुर्गे से लेकर साग-सब्जी तक बेचते हैं एमएस धोनी, इन 5 बड़े बिजनेस में……

Advertisement

(शशि कोनहेर) : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी  ने अगस्त 2020 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। अब वह इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) का नेतृत्व करते हैं। हाल में उनकी टीम IPL 2023 का फाइनल मैच मुंबई इंडियंस (MI) के खिलाफ जीती है। धोनी क्रिकेट ग्राउंड के अलावा बिजनेस की पिच पर भी पिछले कई सालों से कमाल कर रहे हैं।

Advertisement

धोनी के पास 43 एकड़ में फैला फार्म हाउस है, जिसमें 38 एकड़ पर वह खेती करते हैं। अपने फार्म में वह सब्जी, फल, आदि उगाते हैं। उन्होंने कई बड़ी कंपनियों में भी पैसा लगाया है।

Advertisement

कड़कनाथ का बिजनेस करते हैं धोनी
धोनी पोल्ट्री फार्म के बिजनेस में हैं। अप्रैल 2022 में रांची स्थित धोनी के फार्म हाउस से मध्य प्रदेश  की एक सहकारी संस्था को कड़कनाथ मुर्गे के 2000 चूजों का ऑर्डर मिला था। मप्र के झाबुआ जिले के जिलाधिकारी सोमेश मिश्रा ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से बातचीत में इस बात की पुष्टि की थी।

झाबुआ के कृषि विज्ञान केंद्र के प्रमुख डॉ आईएस तोमर के मुताबिक, कड़कनाथ के एक दिन के चूजों की कीमत करीब 75 रुपये है, जबकि 15 दिन और 28 दिन के चूजों की कीमत क्रमश: 90 रुपये और 120 रुपये है।

कड़कनाथ नस्ल के मुर्गे प्रोटीन से भरपूर माने जाते हैं और आम मुर्गों की तुलना में बहुत महंगे मिलते हैं। दिल्ली में ऑनलाइन ग्रॉसरी ऐप पर कड़कनाथ के एक अंडे की कीमत 50 रुपये है। कड़कनाथ का मांस 1500 रुपये प्रति किलो तक मिलता है।

धोनी खेत में क्या-क्या उगाते हैं?
आउलटलुक की एक ग्राउंड रिपोर्ट के मुताबिक, धोनी के गृह राज्य झारखंड के रांची में कैप्टन कूल के फार्म हाउस में उगाई सब्जियों और फलों के लिए दुकानों पर भीड़ लगी रहती है।

रांची के चहल-पहल भरे डेली मार्केट में धोनी के फार्महाउस में उगाई जाने वाली स्ट्रॉबेरी, टमाटर और अन्य उपज बेचने वाले मोहम्मद अरशद कहते हैं कि उनके प्रोडक्ट की मांग इतनी अधिक है कि पूरा स्टॉक कुछ ही समय में खत्म हो जाता है।

झारखंड की राजधानी से कुछ ही दूरी पर सीआरपीएफ कैंप के पास सैम्बो में 43 एकड़ में फैला एक विशाल फार्महाउस धोनी का है। धोनी का परिवार मूल रूप से उत्तराखंड से ताल्लुक रखता है। उन्होंने कुमाऊंनी में अपने फॉर्महाउस का नाम ‘ईजा’ रखा है, हिंदी में इसका अर्थ- ‘मां’ होता है।

Advertisement

धोनी के खेत में अनानास, बेर, आम, अमरूद और पपीते जैसे फलों की कई किस्में उगाई जाती हैं। टमाटर, मटर, ब्रोकोली, कद्दू और कई सब्जियां भी उगाई जाती हैं। स्ट्रॉबेरी अकेले एक एकड़ से अधिक में लगाए गए हैं। उनके फार्म का दावा है कि सब कुछ बिना कीटनाशकों का इस्तेमाल किए उगाया जाता है। खाद के रूप में केवल गाय के गोबर का उपयोग किया जाता है

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button