छत्तीसगढ़

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के गृह जिले मे़ ही क्रास वोटिंग की आशंका, मुंगेली नगरपालिका उपाध्यक्ष खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव में विजय शर्मा होंगे पर्यवेक्षक

(शशि कोन्हेर) : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अरुण साव के गृह जिले की मुंगेली नगर पालिका उपाध्यक्ष के खिलाफ प्रस्तुत अविश्वास प्रस्ताव मैं ही क्रास वोटिंग की आशंका दिखाई दे रही है। शायद इसे ही देखते हुए प्रदेश अध्यक्ष श्री अरुण साव ने मुंगेली नगर पालिका के उपाध्यक्ष के खिलाफ प्रस्तुत अविश्वास प्रस्ताव मतदान के दौरान पार्टी की ओर से श्री विजय शर्मा को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। यहां उल्लेखनीय है कि मुंगेली नगर पालिका में अल्पमत में आ चुकी भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष श्री मोहन मल्लाह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखा गया है।

Advertisement

जिस पर 24  जनवरी को मतदान होगा। इस मतदान पर नजर रखने के लिए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अरुण साव ने श्री विजय वर्मा को बतौर पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। यहां यह बताना लाजमी है कि मुंगेली नगरपालिका के लिए हुए विगत चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी से 12 पार्षद चुनकर आए थे जबकि कांग्रेश के 10 पार्षद चुनाव में विजयी हुए थे। मुंगेली नगर पालिका में कुल 22 वार्ड हैं। इस चुनाव के बाद अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों ही पदों के लिए भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों की जीत हुई थी। अध्यक्ष पद के लिए संतूलाल सोनकर और उपाध्यक्ष पद के लिए मोहन मल्लाह चुनाव में विजयी घोषित किए गए थे।

Advertisement

लेकिन बाद में आर्थिक अनियमितता के आरोप में भाजपा के नगर पालिका अध्यक्ष संतूलाल सोनकर जेल जाने के कारण पद से बर्खास्त कर दिए गए। इसके बाद हुए अध्यक्ष के चुनाव में भाजपा पार्षदों की क्रास वोटिंग  के कारण कांग्रेस के हेमेंद्र गोस्वामी चुनाव जीतने में सफल हुए थे। आश्चर्य की बात यह है कि भाजपा के 12 और कांग्रेस के 10 वोट होने के बाद भी कांग्रेश के हेमेंद्र गोस्वामी 16 वोट पाकर चुनाव जीत गए थे। इसका मतलब ही साफ है कि भारतीय बाप पार्षदों की ओर से खुलकर कहां शूटिंग की गई थी।

Advertisement

अब अपनी पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस समर्थकों ने उपाध्यक्ष पद पर मौजूद भारतीय जनता पार्टी के श्री मोहन मल्लाह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखा है। जिस पर 24 जनवरी को मतदान होना है। इस चुनाव में भी भाजपा पार्षदों के द्वारा जोरदार का वोटिंग की आशंका है। इसके कारण ही अपने गृह जिले की मुंगेली नगर पालिका में पार्टी की फजीहत से बचने के लिए प्रदेश अध्यक्ष के द्वारा विजय शर्मा को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।

लेकिन भाजपा के 3 पार्षदों के कांग्रेस प्रवेश से और पूर्व अध्यक्ष संतू लाल सोनकर का वोटिंग पावर नहीं रहने तथा क्रास वोटिंग की आशंका से कांग्रेस की स्थिति काफी मजबूत है। कांग्रेश की ओर से इस समय मनुराज सोनी को मजबूत दावेदार माना जा रहा है। उनके पिता अनिल सोनी मुंगेली नगर पालिका के तीन बार अध्यक्ष आ गए हैं जबकि उनकी माता भी एक बार अध्यक्ष रह चुकी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button