जांजगीर-चाम्पा

जेल कस्टडी में मौत.. सिंधी समाज में भड़का आक्रोश

(शशि कोन्हेर) : चांपा। जेल कस्टडी में उपचार उपचार के दौरान स्थानीय कदम चौक निवासी नितेश विरानी की संदिग्ध मौत के बाद सिंधी समाज में आक्रोश भड़क गया। नितेश की मौत के बाद परिजन इसे लेकर सवाल खड़े कर रहे हैं। परिजनों ने आज सिंधु समाज के साथ कलेक्टर से मुलाकात कर एक पत्र सौंपा, जिसमें उन्होंने जेल प्रशासन पर घोर लापरवाही का आरोप लगाते हुए संपूर्ण घटना की उच्चस्तरीय कमेटी बनाकर न्यायिक जांच की मांग की है।

Advertisement

परिजनों का कहना है कि जिस केस में आरोपी को बंदी बनाया गया था, वह संपूर्ण लेनदेन प्रक्रिया में केवल गवाह था। उसके बाद भी उसे मुख्य आरोपियों के रूप एफआईआर में बिना वैध साक्ष्य नामदर्ज किया। परिजनों ने जेल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कस्टडी में आरोपी की मौत के बाद कई सवाल खड़े किया है। परिजनों का कहना है कि घटना के दो दिन पूर्व जेल में मिलने गए थे, तब वह बिल्कुल स्वस्थ्य था। अचानक उसकी मौत को लेकर परिजन संदेह व्यक्त कर रहे हैं। परिजनों ने मामले में जेल प्रशासन पर प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए कलेक्टर से उच्चस्तरीय न्यायिक जांच की मांग की है। आपकों बता दें कि जमीन संबंधी एक मामले में नितेश विरानी जिला जेल जांजगीर में निरूद्ध बंदी था। परिजनों का कहना है कि बीते 17 जून की शाम नितेश के संबंध में सूचना मिली, जबकि उसे सुबह से ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिजनों का कहना है कि नितेश का स्वास्थ्य खराब था। इसके बावजूद जान-बुझकर उसे उच्च स्तरीय उपचार देने में विलंब किया गया, जिसके चलते उसकी मौत हो गई। आज तीसरे दिन चांपा के अंबेडकर भवन में नितेश का पगड़ी रस्म हुआ, जिसमें समाज के लोग बड़ी संख्या में मौजूद रहे। उन्होंने मीडिया से भी इस पूरे घटनाक्रम में बात की और दोषियों के खिलाफ उचित कार्रवाई करते हुए इस पूरे मामले की न्यायिक जांच की मांग की।

Advertisement

परिजन सहित सिंधु समाज ने कलेक्टर से जिन बिंदुओं पर उच्च स्तरीय न्यायिक जांच की मांग की है, उसमें जेल अभिरक्षा में प्रताड़ना से मौत कैसे हुई, इलाज के दौरान नितेश के शरीर में चोटों के निशान किन परिस्थितियों में कैसे हुई, बीमारी की सूचना जेल प्रशासन ने परिजनों को क्यों नहीं दी, जिला अस्पताल में भर्ती की सूचना बाहरी लोगों से प्राप्त क्यों हुई, जेल प्रशासन की प्रताड़ना से घायल युवक द्वारा निरंतर अपनी बिगड़ी तबियत की एवं बेचैनी की जानकारी बैरक में तैनात सुरक्षा व्यवस्था प्रहरी को दी जाती रही, उसके बाद भी समय में उपचार में कोताही क्यों बरती गई, जिला अस्पताल में भी समुचित इलाज की सुविधा क्यों नहीं मिली, जिला अस्पताल में डिस्चार्ज के बाद भी बीमार व्यक्ति के उपचार छोड़ कागजी कार्रवाई के लिए 3 घंटे तक अनावश्यक विलंब क्यों किया गया, जेल प्रशासन द्वारा जिला अस्पताल से डिस्चार्ज उपरांत पुनः कागजी कार्रवाई के लिए पुनः एम्बुलेंस को जेल बुलाकर प्रताड़ना क्यों दी गई, पुलिस व जेल प्रशासन की संपूर्ण कार्रवाई पर सभी तथ्यों की बारिकी से न्यायिक जांच की जाए, संपूर्ण घटना चक्र का वीडियो फुटेज, डॉक्टरी जांच विवरण एवं पोस्टमार्टम की रिपोर्ट परिजनों को सौंपी जाए, शव परिजनों को सौंपे जाने पर विलंब और उपस्थित पुलिसकर्मियों द्वारा परिजनों से दुर्व्यवहार आदि मांग शामिल है।

Advertisement

पूज्य सिंधी पंचायत व सिंधु युवा सेवा समिति ने पगड़ी रस्म उपरांत जेल प्रशासन पर अपना आक्रोश जताते हुए नितेश विरानी के परिजनों को न्याय दिलाने की मांग की है, जिसमें नितेश विरानी की जेल अभिरक्षा में हुई मौत की निष्पक्ष न्यायिक जांच कराने, आश्रित को सरकारी नौकरी देने, बच्चों की निःशुल्क शिक्षा की गारंटी देने, आश्रित पत्नी एवं दो मासूम छोटी बेटियों के पालन पोषण के लिए 50-50 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग शामिल है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button