देश

द केरल स्टोरी’ पर चली सेंसर बोर्ड की कैंची, ‘ए’ सर्टिफिकेशन के साथ उड़ाए फिल्म के कई सीन

Advertisement

दिल्ली : विपुल शाह और सुदीप्तो सेन की आगामी फिल्म द केरल स्टोरी  अपने कॉन्टेंट के कारण खबरों में बनी हुई है। फिल्म के ट्रेलर रिलीज से ही बवाल मचा हुआ है। अब फिल्म के कई सीन्स पर सेंसर बोर्ड की कैंची चल गई है।

Advertisement

फिल्म को मिला ‘ए’ सर्टिफिकेट
द केरल स्टोरी को लेकर बढ़े विवाद के बाद रिलीज को रोकने के लिए कोर्ट में याचिका भी दायर की गई। हालांकि, कोर्ट ने फिल्म की रिलीज को रोकने से इनकार कर दिया। अब द केरल स्टोरी को सेंसर बोर्ड से ‘ए’ सर्टिफिकेट मिला है।

Advertisement

‘ए’ सर्टिफिकेट का मतलब
किसी भी फिल्म को सेंसर बोर्ड की तरफ से ‘ए’ सर्टिफिकेट मिलने का मतलब है कि इसे सिर्फ एडल्ट देख सकते हैं। सीबीएफसी की ये कैटेगरी फिल्म को 18 साल से कम उम्र के व्यक्ति को सिनेमाघरों और मूवी हॉल में फिल्म देखने से प्रतिबंधित करती है।

10 सीन्स पर चली कैंची
बोर्ड ने द केरल स्टोरी को ‘ए’ सर्टिफिकेट देने के साथ-साथ इसके लगभग 10 सीन्स पर कैंची चला दी है। ईटाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC) ने द केरल स्टोरी के 10 सीन डिलीट किए हैं। हालांकि, अभी तक फिल्म निर्माताओं ने दृश्यों को हटाने और प्रमाणन की बात आधिकारिक तौर पर नहीं बताई है।

शशि थरूर ने जताई आपत्ति
द केरल स्टोरी के ट्रेलर रिलीज के बाद आम जन से लेकर राजनीति तक, कई समुदायों ने आपत्ति जताई। फिल्म के ट्रेलर ने कांग्रेस लीडर और केरल के तिरुवनंतपुरम शहर के एमपी शशि थरूर को भी परेशान किया। उनके अलावा केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने फिल्म के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

एक करोड़ देने की पेशकश

मुस्लिम यूथ लीग केरल ने कथित तौर पर 1 करोड़ रुपये का इनाम देने तक की पेशकश की है, जो ट्विटर पर वायरल हो रहा है। पोस्ट में कहा गया कि अगर कोई यह आरोप साबित कर सकता है कि 32,000 केरलवासी महिलाओं का धर्म परिवर्तन करके उन्हें सीरिया ले जाया गया है तो उन्हें  1 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।फिल्म की रिलीज डेट

द करेल स्टोरी में अदा शर्मा लीड रोल निभा रही हैं। फिल्म 5 मई को थिएटर्स में रिलीज की जाएगी। फिल्म की कहानी सुदीप्तो सेन ने लिखी है और उन्होंने डायरेक्शन भी किया है। वहीं, विपुल शाह ने प्रोडक्शन के साथ डायरेक्शन की भी कमान संभाली। फिल्म में केरल की 32 हजार महिलाओं की कहानी दिखाई गई है, जिनका कथित तौर पर इस्लामिकरण करके आतंकवादी संगठनों के पास भेज दिया गया।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button