• Dr CV Raman Portal Header Ad
  • lokswarad_1
  • javascript slider
  • lokswarad_4
छत्तीसगढ़बिलासपुर

बायोटेक एण्ड बायोकेमेस्ट्री के छात्रों ने बनाया बायो प्लास्टिक और साबुन

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर – सीएमडी महाविद्यालय के बायोटेक वं बायोकेमेस्ट्री विभाग नेे एक दिवसीय हैण्ड्स ऑन ट्रेनिंग का आयोजन किया। जो कि विद्यार्थियों को आत्मनिर्भर भारत मिशन को सफल बनाने हेतु एक सार्थक पहल है। इस ट्रेनिंग के अंतर्गत आज दिनांक 02 दिसंबर को केमिकल रहित साबुन का सफलतापूर्वक निर्माण कर शासी निकाय के अध्यक्ष पं. संजय दुबे एवं श्रीमती श्रद्धा दुबे  के हाथों से विद्यार्थियों एवं प्राध्यापकों के लिए लोकार्पण किया गया।

उक्त कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए डाॅ. सी.व्ही. रामन यूनिवर्सिटी के विभागाध्यक्ष डाॅ. अनुपम तिवारी का पूर्ण सहयोग रहा। उक्त तीन प्रकार के साबुन बनाये गये। जिसमें लेमन, गुलाब, एलेवेरा फ्लेवर बनाए गए। इस अवसर पर शासी निकाय के अध्यक्ष पं. संजय दुबे  ने प्राध्यापकों एवं विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन किया एवं पेटेन्ट कराने हेतु बायोटेक वं बायोकेमेस्ट्री विभाग के विभागध्यक्ष डाॅ. हनुमन्तपाल शर्मा को निर्देशित किया। श्रीमती श्रद्धा दुबे ने उक्त फ्लेवर युक्त साबुन की भूरी-भूरी प्रशंसा की साथ ही बायो डिग्रेडेबल थैली का भी लोकार्पण किया जो कि महाविद्यालय में अध्ययनरत् छात्र/छात्राओं के लिए अध्ययन के साथ-साथ रोजगारमूलक कार्यक्रम की ओर अग्रसर करेगा। श्रीमती दुबे जी ने बताया कि छात्र/छात्राएं इसे लघु स्तर पर इसका उत्पादन कर बाजारों में विक्रय करेंगे। साथ ही उन्होने ये भी कहा कि इसे स्वरोजगार मेले के अंतर्गत भी प्रदर्शन कर जन मानस के अनुरूप बनाया जा सकता है।

Advertisement
Advertisement

महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य डाॅ. संजय सिंह ने अध्यक्ष महोदय को बताया कि इसका संपूर्ण परीक्षण किया जा चुका है। डाॅ. हनुमन्तपाल शर्मा ने बताया कि इस प्रकार के साबुन बाजार में 45/- रूपये प्रति साबुन है जबकी महाविद्यालय केवल 18/- रूपये पर ही उपलब्ध करा रहा है जो कि काॅस्ट कटिंग का सबसे अमूल्य उदाहरण है। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में प्रा.नेहा कश्यप, प्रा के.प्रवीणा, प्रा. विनीता चैहान का विशेष सहयोग रहा।

Advertisement


इस कार्यक्रम का संचालन डाॅ. हनुमन्तपाल शर्मा (विभागाध्यक्ष – बायोटेक एण्ड बायोकेमेस्ट्री) ने किया। इस कार्यक्रम मे  डाॅ. हर्षा शर्मा, श्रीमती स्मृति पाण्डेय, एवं एवं भारी संख्या में प्राध्यापक एवं विद्यार्थीगण उपस्थित रहें।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button