देश

महज 1 साल की उम्र में दो बच्चे बने जगन्नाथ मंदिर के सेवक….सालाना मिलेंगे 2 लाख रुपये

Advertisement


(शशि कोन्हेर) : ओडिशा में महज 10 महीने और 1 साल की उम्र वाले दो बच्चे जगन्नाथ मंदिर के सेवकों में शामिल हो गए हैं। इतना ही नहीं दोनों बच्चों को हार साल क्रमश: 1 लाख रुपये और 2 लाख रुपये मेहनताना भी मिलेगा। अब खास बात है कि भले ही रथ यात्रा से महज 15 दिन पहले ही बच्चों को मंदिर व्यवस्था में शामिल किया गया है, लेकिन वे 18 साल की आयु के बाद ही मंदिर में सेवाएं दे सकेंगे।

Advertisement

10 माह के बालदेव दशमोहपात्रा, 1 साल के एकांशु दशमोहापात्रा को बुधवार को औपचारिक रूप से पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर का सेवक बना दिया गया है। इन दो बच्चों के अलावा 1 साल के एक और बच्चे का नाम भी इस सूची में शामिल हुआ है। ये बच्चे रथ यात्रा के दौरान सबसे अहम रस्में निभाने वाले सेवकों दैतापति निजोग से आते हैं।

Advertisement

बच्चों को मंदिर के अनासार घर में आयोजित एक समारोह में मंदिर का सेवक बनाया गया है। दरअसल, इसी कमरे में भगवान जगन्नाथ, भगवान बलभद्र और देवी सुभद्रा हैं।

Advertisement

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक वरिष्ठ दैतापति सेवक ने बताया, ‘परंपरा है कि जब भी दैतापति के परिवार में बेटे का जन्म होता है, तो उसे 15 दिनों की अनासार अवधि के दौरान भगवान की सेवा में शामिल किया जाता है। अनासार के समय 21 दिनों से ज्यादा आयु वाले बच्चे हमारे समुदाय में शामिल होने के लिए योग्य हो जाते हैं।’ जानकारी देने वाले जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्य भी हैं।

Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button