देश

आनंद महिंद्रा ने अग्निवीरों को नौकरी देने की घोषणा की, हिंसा पर जताया दुख….

Advertisement

नई दिल्ली – सैनिक बन कर देश की सेवा कर सेवानिवृत होने वाले अग्निवीरों को देश के प्रमुख उद्योग पति महिंद्रा ग्रुप के मालिक आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर नौकरी देने का फैसला लिया है। आनंद महिंद्रा का यह अहम फैसला उन अग्निवीरों के लिए खुशखबरी है, जो अपने भविष्य के लिए चिंतित हैं और केंद्र सरकार के अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे हैं।
आनंद महिंद्रा ने आगे लिखा है कि अग्निपथ कार्यक्रम को लेकर हुई हिंसा से दुखी हूं। जब पिछले साल इस योजना पर विचार किया गया था, तो मैंने कहा था और मैं फिर दोहराता हूं- अग्निवीरों द्वारा हासिल किया गया अनुशासन और कौशल उन्हें प्रमुख रूप से रोजगार योग्य बना देगा। महिंद्रा समूह ऐसे प्रशिक्षित, सक्षम युवाओं की भर्ती के अवसर का स्वागत करता है।

Advertisement


आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर कहा कि कॉरपोरेट क्षेत्र में अग्निवीरों के लिए रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। नेतृत्व, टीम वर्क और शारीरिक प्रशिक्षण से लैस युवा हमारे उद्योग को आगे बढ़ाने का काम करेंगे। इन युवाओं में संचालन से लेकर प्रशासन और आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन तक का पूरा स्पेक्ट्रम शामिल है।

Advertisement
https://twitter.com/anandmahindra/status/1538696671932063745?t=BHC8eqY3X4WHzuWJRQsXqw&s=19


वहीं सेना ने तीनों सेनाओं में भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के लिए तारीखों का एलान भी कर दिया है। थलसेना ने कहा है कि उसकी भर्ती प्रक्रिया 1 जुलाई से शुरू हो जाएगी। वहीं वायुसेना की भर्ती प्रक्रिया 24 जून से शुरू होगी, जबकि नौसेना की भर्ती प्रक्रिया 25 जून से शुरू होगी। इस भर्ती में 17.5 वर्ष से 21 वर्ष तक के उम्मीदवार शामिल हो सकेंगे, हालांकि इस साल के लिए दो वर्षों की छूट भी दी गई है। यह भर्ती चार सालों के लिए होगी। इसके बाद परफॉर्मेंस के आधार पर 25 फीसदी कर्मियों को वापस रेगुलर कैडर के लिए नामांकित किया जाएगा।

बता दें कि उम्मीदवारों को सशस्त्र बलों में आगे नामांकन के लिए चुने जाने का कोई अधिकार नहीं होगा। चयन सरकार का अनन्य क्षेत्राधिकार होगा। मेडिकल ट्रेडमैन को छोड़कर भारतीय वायु सेना के नियमित कैडर में एयरमैन के रूप में नामांकन केवल उन्हीं कर्मियों को दिया जाएगा, जिन्होंने अग्निवीर के रूप में अपनी सेवा की अवधि पूरी कर ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button