play-sharp-fill
छत्तीसगढ़बिलासपुर

दर्जनों ट्रेनों की आवाजाही और स्टॉपेज बंद करने के खिलाफ, आंधी पानी के बावजूद, कांग्रेसजनों ने नेता प्रतिपक्ष के निवास के समक्ष दिया धरना.. *विजय केशरवानी ने कहा…जब तक रेल प्रशासन झुकेगा नहीं, तब तक आंदोलन रुकेगा नहीं

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर : क्षेत्र में दशकों  से चल रही दर्जनों ट्रेनों और उसके ठहराव को रेल प्रशासन ने तुगलकी रवैया अपनाते हुए रद्द कर दिया है। इससे रेलवे के खिलाफ बिलासपुर समेत पूरे जिले में आक्रोश का ज्वालामुखी धड़क रहा है। रेलवे के खिलाफ लोगों के आक्रोश को देखते हुए जिला कांग्रेस कमेटी और उसके पदाधिकारी बीते कई दिनों से धरना प्रदर्शन आंदोलन ज्ञापन के जरिए रेल प्रबंधन को सतर्क कर रहे हैं। जिससे उन्हें बिलासपुर रेलवे जोन जैसे उग्र आंदोलन का सामना ना करना पड़े।

Advertisement

आज विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और बिलासपुर जिले के विधायक श्री धरमलाल कौशिक के निवास पर कांग्रेसजनों ने जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री विजय केसरवानी की अगुवाई में बड़ी संख्या में इकट्ठा होकर, रद्द की गई ट्रेनों को शुरू करने और बंद किए गए ट्रेन स्टॉपेज को फिर से बहाल करने के विरोध में मुंह पर काली पट्टी लगाकर मौन आंदोलन और धरना प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में भाग लेने के लिए बिल्हा क्षेत्र से बड़ी संख्या में महिला पुरुष कांग्रेसजनों का रैला इस आंदोलन में साथ देने श्री धरमलाल कौशिक के निवास के सामने पहुंचा था।

Advertisement

रेलवे के तानाशाही पूर्व रवैया के खिलाफ लोगों के आक्रोश का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आंदोलन के दौरान भारी आंधी पानी के बाद भी अपनी पीड़ा,  रेलवे प्रशासन और केंद्र सरकार तक पहुचाने के लिए आंदोलन में नेताओं के साथ डटे रहे।  कोरोना महामारी काल से आज तक लगभग ढाई वर्षो से ट्रेनों का परिचालन पूर्णत  बंद है। जबकि मालगाड़ियो का आवागमन लगातार तेजी से चल रहा है।‌जहाँ कोरोना के प्रकोप से पहले ही भुगत चुकी प्रदेश की जनता को यात्री ट्रेनें और क्षेत्रीय ट्रेन स्टॉपेज बंद कर और परेशान हलकान किया जा रहा है।स्टापेज खत्म होने से क्षेत्रीय जनता के लिए विकट समस्या पैदा हो गई है। जहाँ  रेलवे से मिलने वाले रोजगार पर निर्भर गरीब मजदूरों की ,रोजी रोटी तक छिन गयी है।

जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष विजय केशरवानी ने नेता प्रतिपक्ष छत्तीसगढ़ विधानसभा एवं बिल्हा क्षेत्र के विधायक श्री धरमलाल कौशिक आगरा किया है कि वे ट्रेनों और उनके स्टॉपेज बंद होने से हो रही परेशानियों से निजात दिलाने के लिए केंद्र सरकार तक लोगों की दुख पीड़ा को पहुंचाने का काम करें। ‌ऐसा लगता है कि कार्य की व्यस्तताओ के कारण आप ने अभी तक इस मसले पर ध्यान नही दिया है। इस कारण ही हमारा संगठन आप के निवास के समक्ष   “बेजुबान प्रदर्शन”कर आपको इस मसले का महत्व और आम जनता की तकलीफ से वाकिफ करना चाहता है।


 हमारा विश्वास है कि या तो आप भाजपा की केंद्र सरकार से यह जन विरोधी फैसला बदलवा देंगे या भविष्य में हमारे साथ रेल रोको आंदोलन में भाग लेंगे। चूंकि आपकी विधानसभा के बिल्हा रेलवे स्टेशन पर भी रुकने वाली 16 यात्री गाड़ियों में से 13 यात्री गाड़ियों के स्टापेज समाप्त कर दिये गए हैं। जिला अध्यक्ष  कहा कि — आंदोलन की शुरुआत हो चुकी है और ये तब तक बंद नही होगा, जब तक ट्रेनों का आवागमन और स्टापेज पुनः यथावत शुरू नहीं कर दिए जाते ।

श्री केशश्रवानी ने तंज कसा कि केंद्र की मोदी सरकार बुलेट ट्रेन चलाने की बात करती है और आज यहां प्रदेश की जनता को लोकल और एक्सप्रेस ट्रेन और उसका स्टॉपेज तक नसीब नही हो रहा है। कांग्रेस पार्टी जनता के हित के लिए हमेश से लड़ते आयीहै और आज भी जब ट्रेनों के ठहराव बंद होने से बिलासपुर जिले समेत प्रदेश भर के लोग तकलीफ में है तब कांग्रेस सड़क पर उतरकर इस लड़ाई लड़ रही है। जब तक स्टापेज पहले की तरह नही हो जाते तक तब तक ये लड़ाई जारी रहेगी।

धरना प्रदर्शन पर बैठे कांग्रेस जनों और ग्रामीणों ने नेता प्रतिपक्ष से मौन आग्रह किया है कि आप तो भाजपा के दिग्गज नेता है। केंद्र में आपकी सरकार है आप छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष है। इतना ही नही बिल्हा क्षेत्र के विधायक होने के नाते भी आप कम से कम इस क्षेत्र की जनता की तकलीफ को अपने सरकार तक पहुचा कर ट्रेनों को यथावत पुनः से प्रारंभ करवाइये। आगे विजय ने कहा आज इस बेजुबान प्रदर्शन के दौरान तेज तूफान और भारी बारिश के बाद भी आम जनता पूरी ताकत के साथ डटी रही।। इससे रेलवे के तुगलकी फरमान के खिलाफ उनके मन में भरा आक्रोश साफ झलक रहा


है। जब तक रेल प्रबंधन झुकेगा नहीं…तब तक आंदोलन रुकेगा नहीं। अगर सीघ्र ही ट्रेनों के परिचालन को शुरू नही किया जाता तो बिलासपुर रेलवे जोन मुख्यालय में जी.एम ऑफिस का भी घेराव करेंगे और जरूरत पडी तो इस आंदोलन को सदन तक ले जाएंगै
लंबे अरसे से ट्रेनों और क्षेत्रीय रेलवे स्टॉपेज के बंद होने से विलासपुर, कोरवा सहित प्रदेश के सभी जिलो में रेलवे के खिलाफ लोगों का आक्रोश धड़क रहा है।। रेलवे प्रशासन को यह ध्यान रखना चाहिए कि अगर रेल प्रबंधन छत्तीसगढ़ की जनता की छाती में मूंग धरना जारी रखेगी तो उसे किसी दिन रेल जोन आंदोलन जैसे हालात का सामना करना पड़ सकता है। काबिले गौर है कि आज हुए इस आंदोलन से पहले प्रमुख ट्रेनों के स्टॉपेज वाले स्टेशनों बिल्हा, करगीरोड, बेलगहना, टॅगनमाडा, खाँगसरा, खोडरी सलका, घुटकू में बकायदा आंदोलन कर ट्रेनों का स्टॉपेज शुरू करने की मांग की गई है।

Advertisement

आज हुए‌ इस बेजुबान धरना प्रदर्शन में जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष विजय केशरवानी ,बिल्हा ब्लॉक अध्यक्ष गीतांजलि कोशिश ,तिफर ब्लॉक अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू ,पूर्व विधायक सियाराम कौशिक सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रमोद नायक , छाया विधायक राजेन्द्र शुक्ला, और छाया विधायक राजेन्द्र साहू शामिल रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button