बिलासपुर

पूरे दिन रोजा रखने के बाद..शाम को जब खून के लिए फोन आया..तो दौड़ पड़े शहर के युवा अधिवक्ता फैज काजी..

रमज़ान के महीने में सारा दिन रोज़ा रखने के बाद, सारा दिन अपने काम करने के बाद जब सुकून से बैठने का वक़्त आया, अचानक से कॉल आ गया कि किसी मासूम बच्चे को आपकी मदद चाहिए, आपका जो ब्लड ग्रुप है उसी ग्रुप का ब्लड चाहिए है।

Advertisement

जी हाँ हम बात कर रहे हैं छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के अधिवक्ता फ़ैज़ क़ाज़ी की, उदय चिल्ड्रन हॉस्पिटल वेयर हाउस रोड में मल्हार से एक बच्चा भर्ती हुआ, ब्लड की जांच में पाया गया कि उसके शरीर मे केवल 3 ग्राम खून है, उसकी जान खतरे में है, और सबसे बड़ी समस्या तो ये थी कि उस बच्चे का ब्लड ग्रुप ए नेगेटिव निकला, जो की बिलासपुर शहर में गिने चुने लोगो का ही है।

Advertisement

ग्रामीण क्षेत्र के होने के चलते परिवार वालो के हाथ पैर फूल गए, 3 ग्राम होने की वजह से कम से कम बच्चे को 3 से 4 बोतल खून इसी ग्रुप का चढ़ाना अनिवार्य हो गया। ऐसे में मल्हार के एक व्यापारी अवधेश देवांगन जो कि बिलासपुर की अग्रणी संस्था जज़्बा एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसायटी के सदस्य हैं ने तत्काल बिलासपुर के संयोजक संजय मतलानी से संपर्क किया, संजय मतलानी तत्काल हरकत में आये और शहर के सभी ब्लड बैंको में कॉल करके इस दुर्लभ ग्रुप की तलाश में जुट गए, उन्हें ध्यान आया कि हाइकोर्ट के वकील फ़ैज़ काज़ी को पहले भी संस्था की मदद कर चुके हैं उनका भी ब्लड ग्रुप यही है, उन्होंने तुरंत उनसे संपर्क किया और अपना रोज़ा खोल के वकील साहब सीधा ब्लड बैंक पहुंचे, जिस से उस बच्चे की जान बचाई जा सकी।

Advertisement

संस्था के संयोजक संजय मतलानी ने बताया कि बच्चे के लिए दूसरी बोतल की व्यवस्था अपोलो हॉस्पिटल ब्लड बैंक के माध्यम से की गई है जो देर रात उस बच्चे को बिना डोनर के जज़्बा द्वारा उसे दिलवाई गई।

आपको बता दें कि बिलासपुर में गर्मी अपने पिछले कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ रही है, रमज़ान का महीना भी शुरू हो गया है, साथ ही नवरात्रि का पावन पर्व भी चालू है, जिस वजह से बिलासपुर शहर के अधिकांश ब्लड बैंक अब खाली होने की कगार पर है, ऐसे में जज़्बा के संयोजक संजय मतलानी अपनी टीम के सदस्यों के माध्यम से आज भी लोगों की ब्लड दिलवा का उन्हें मदद पहुँचा रहे हैं।

शहर और आसपास के थैलासीमिया पीड़ितों को तो उनकी संस्था पिछले कई वर्षों से संभाले हुवे है जिस से की अनगिनत मासूम राहत की सांस लेते हुवे जीवन यापन कर रहे हैं।

संस्था के संयोजक संजय मतलानी ने बताया उनके साथ उनकी टीम में विनय जेपी वर्मा , महेंद्र चतुर्थी , रोमा साहू , मोहम्मद कलाम , मोहम्मद नियाज़ , नीलमणि सिंह , योगेश साहू , मनप्रीत कौर खनूजा , डॉ. अजय पांडेय सहित अन्य सदस्य कंधे से कंधा मिलाकर कार्य कर रहे हैं।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button