देश

यूपी प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने क्यों दिया पद से इस्तीफा…!

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : लखनऊ – उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार के बड़े मंत्रालयों में तबादलों से मची सियासी उथल-पुथल अभी थमी नहीं थी कि नया भूचाल आ गया है. सूत्रों के मुताबिक, स्वतंत्र देव सिंह ने यूपी के बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष से इस्तीफा दे दिया है. वो फिलहाल उप्र सरकार में जलशक्ति मंत्री हैं. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर तीन साल का कार्यकाल खत्म हो चुका था. 2019 में उनको बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था. यूपी के प्रदेश अध्यक्ष की खोज शुरू हो चुकी है. अगले हफ्ते तक बीजेपी के नए प्रदेश अध्यक्ष का ऐलान हो सकता है. बीजेपी में परंपरा रही है कि एक व्यक्ति दो पद नहीं ले सकता है. फिलहाल स्वतंत्र देव प्रदेश अध्यक्ष होने के साथ ही जल शक्ति मंत्री भी हैं.

Advertisement


स्वतंत्र देव को 16 जुलाई, 2019 को उत्तर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. उनका तीन साल का कार्यकाल 16 जुलाई, 2022 को पूरा हो गया है. वह फिलहाल प्रदेश सरकार में जलशक्ति मंत्री हैं. यूपी में बीते तीन महीने से नए प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति की अटकलें लगाई जा रही थीं. स्वतंत्रदेव ने तीन साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है. योगी सरकार 2.0 में स्वतंत्र देव को डिप्टी सीएम बनाने की भी चर्चा थी.

Advertisement

अगला अध्यक्ष ओबीसी या ब्राह्मण समुदाय से?
स्वतंत्र देव सिंह के इस्तीफा देने के बाद अब चर्चा है कि यूपी में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ओबीसी या ब्राह्मण समुदाय से हो सकता है. यूपी में वर्ष 2014, 2017, 2019 और 2022 के चुनावों में भाजपा का प्रदर्शन शानदार रहा है. ऐसे में 2024 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी एक बार फिर बेहतर प्रदर्शन की योजना पर काम करना शुरू कर दिया है. पिछले दिनों पीएम नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री आवास में चार घंटे के प्रवास के दौरान मंत्रियों के साथ-साथ संगठन के लोगों से भी बातचीत की थी.

नये अध्यक्ष पद के लिए इन ब्राह्मण नेताओं की है चर्चा
बीजेपी के नये प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में ब्राह्मण नेताओं में पूर्व उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, पूर्व ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा, कन्नौज के सांसद एवं प्रदेश महामंत्री सुब्रत पाठक, अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम, नोएडा के सांसद डॉ. महेश शर्मा और प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक के नामों की चर्चा है.

पिछड़े वर्ग से केशव प्रसाद के नाम की चर्चा
बाजेपी प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए पिछड़े वर्ग से उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का नाम चर्चा में है. बीते दिनों केशव की दो दिवसीय दिल्ली यात्रा के दौरान उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के नेताओं से मुलाकात के बाद से लखनऊ से दिल्ली तक केशव को फिर संगठन की कमान सौंपने की चर्चा है. केशव के नेतृत्व में भी बीजेपी ने 2017 में 325 सीटें जीतने का रिकॉर्ड बनाया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button