play-sharp-fill
बिलासपुर

देखें VIDEO- बिलासपुर में नशे के खिलाफ क्रांतिकारी परिणाम दे रहा है पुलिस का निजात अभियान…वहीं सोशल मीडिया में वायरल हो रहे इन दो वीडियो को भी संज्ञान में ले पुलिस अधिकारी

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर। पुलिस अधीक्षक श्री संतोष सिंह कि बिलासपुर में पदस्थापना के साथ ही उनके द्वारा नशे के अवैध धंधे बाजो और नशेड़ियों के खिलाफ निजात अभियान के नाम से शुरू की गई मुहिम के अच्छे परिणाम आने शुरू हो गए हैं। इस मुहिम कारण शहर में शराब के नशे में सड़क चलते होने वाली मारपीट और चाकूबाजी की घटनाओं में रिकॉर्ड कमी देखने को मिल रही है। जाहिर है कि इसके लिए पुलिस अधीक्षक समेत बिलासपुर के पुलिस अधिकारियों और जवानों की टीम साधुवाद की पात्र है।

Advertisement

इस अभियान के कारण बिलासपुर शहर में शराब पीने वाले और उसका अवैध गोरख धंधा करने वाले सभी पुलिस और कानून के डर में सुकुडदुम है। सवाल यह उठता है कि क्या जिले के ग्रामीण थानों में भी इस अभियान के तहत अवैध शराब और गांजा बिक्री की रीढ़ पर शहरी थाना क्षेत्रों की तरह ही प्रहार हो रहा है। यह इसलिए हमें पूछना पड़ रहा है। क्योंकि हमारे पास दो ऐसे वायरल वीडियो पहुंचाए गये हैं। इन दोनों ही वायरल वीडियो में शराब पीने वालों से लंबी हजारों रुपयों की वसूली के आरोप लगाए जा रहे हैं। इसमें से एक वीडियो तो अभी 2 दिन पहले का ही बताया जा रहा है।।

Advertisement

इसमें शराब पीने के आरोप में पकड़े गए एक व्यक्ति से ₹50000 की मांग की गई। जिसे उसके द्वारा 4% ब्याज में लाकर देने की बात कही गई है। वीडियो में उक्त व्यक्ति बाकायदा वसूली करने वाले अधिकारी का नाम भी बता रहा है। और यह बात उसने पूरे मीडिया के सामने कही है। दूसरा वीडियो थोड़ा पुराना है। ले कि नहीं अभी कोटा थाना क्षेत्र के बेलगहना चौकी के अंतर्गत का है। वहां शराब पीने के नाम से धरे गए आरोपी के साथ हमदर्दी इतनी ही बढ़ती गई कि उसे वसूली की रकम किस्तों में देने की सुविधा प्रदान कर दी गई।

Advertisement

यह दोनों ही हमारे द्वारा नहीं लिए गए हैं लेकिन वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं। हमारी गुजारिश है कि बिलासपुर में सामाजिक क्रांति के रूप में सफलतापूर्वक नशे के खिलाफ अभियान चलाने वाले पुलिस अधीक्षक और उनके मातहत वरिष्ठ अधिकारी इन दोनों ही वीडियो की जांच कर ले। इनकी सत्यता का पता लगा ले। और अगर यह वीडियो सही पाया जाता है तो संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई की जाए।‌

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button