play-sharp-fill
गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाहीछत्तीसगढ़

VIDEO : गरज-चमक ओला वृष्टि के साथ झमाझम हुई बारिश….

Advertisement

(उज्जवल तिवारी) : पेण्ड्रा। जिले के इलाके में मौसम ने दूसरे दिन भी करवट ली है। जहां गरज चमक , ओला वृष्टि के साथ ही झमाझम बारिश हुई है। तो वहीं तापमान में गिरावट आई है। साथ ही जिले के कई इलाको में बिजली की सप्लाई बाधित तो अचानक आई बारिश से सामान्य से 2 से 3 डिग्री तक तापमान में कमी भी हुई है।

Advertisement

दरअसल जिले के साथ ही पेण्ड्रा मरवाही धनपुर के ग्रामीण इलाके में अचानक मौसम ने दूसरे दिन का मिजाज दोपहर बाद अचानक बदल गया। जहां पर ओला वृष्टि, गरज और चमक के साथ ही तेज झमाझम बारिश हुई। इस दौरान कुछ इलाकों में गरज-चमक के साथ बौछारें भी पड़ी। वहीं जिले के मौसम में अचानक आए इस बदलाव की वजह से जिले वासियों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली है।

Advertisement

लेकिन साथ ही जिले में एक बार फिर से ठंड दस्तक दे दी है। वहीं इस बीच विगत दिनों मौसम विभाग ने प्रदेश के कई जिलों में आंधी-तूफान के साथ ओलावृष्टी की संभावना जताई थी।

जिसमे में पेंड्रा जिला भी शामिल था। जहां जिले में अचानक दोपहर बाद शाम को मौसम में बदलाव हुआ और तेज वर्षा के साथ ही ओला वृष्टि, गरज चमक के साथ बारिश हुई। वहीं मौसम केंद्र में मौसम विज्ञानी एच. पी. चंद्रा के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से आ रही नमी के कारण मौसम में यह बदलाव हुआ है.

वहीं आने वाले दिनों तक प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में इस तरह का ही मौसम रहने की संभावना है. साथ ही आने वाले दिनों में भी जिले के कई हिस्सो में गरज-चमक के साथ बारिश और कहीं-कहीं पर ओले गिरने की भी आशंका है। वहीं मौसम में आए इस बदलाव के चलते अधिकतम तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस तक गिरावट होने की संभावना है।

तो वहीं बारिश और तेज गर्जना के चलते जिले सहित पेण्ड्रा, मरवाही सहित आसपास के ग्रामीण इलाकों में भी बिजली सप्लाई बाधित है। तो वहीं नगरीय इलाको में बारिश के बाद जगह जगह जल भराव की भी जानकारी मिल रही है। इसके अलावा जिले में आने वाले दिनों में भी तेज वर्षा के साथ ही ओला वृष्टि के गिरने की संभावना है।

वही किसानों के द्वारा लगाए गए गेंहू, चना, सब्जी, फसलों को कहीं ना कहीं नुकसान पहुंचाने की संभावना इस पानी के एवं ओलावृष्टि के कारण हो सकती है। साथ ही आम के फलों एवं अन्य फलों को भी ओलावृष्टि एवं तेज बारिश होने से नुकसान हो सकता है और फलों की आवक बाजारों में गिरावट आ सकती है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button