देश

उन सांसदों को सरकार से डर नहीं लगता…लेकिन मच्छरों से लगता है

(शशि कोन्हेर) : वो सरकार से नहीं डरते। लेकिन उन्हें मच्छरों से डर लगता है। इसीलिए संसद भवन परिसर में 50 घंटे के धरने पर बैठे सांसदों ने पहली रात तो मच्छरों से परेशान होते हुए जैसे तैसे काट ली। लेकिन दूसरी रातों में मच्छरों के डर से मच्छरदानियां लगा ली। राज्यसभा से सस्पेंड हुए विपक्षी पार्टियों के सांसद संसद परिसर में गांधी प्रतिमा के सामने सरकार के खिलाफ 50 घंटे का विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

Advertisement

बुधवार सुबह 11 बजे से शुरू हुआ प्रदर्शन गुरुवार की रात भी जारी रहा. मच्छरों से परेशान सांसदों ने मच्छरदानी लगाकर अपनी नींद पूरी की. आम आदमी पार्टी के निलंबित सांसद संजय सिंह मच्छरदानी में सोए हुए दिखाई दे रहे हैं. वहीं टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन, सुष्मिता देव और मौसम बेनजीर नूर भी दिखाई दे रही हैं.

Advertisement

मच्छरों से परेशान सांसदों ने कल मॉर्टिन की क्वाइल जलाकर रात बिताई थी. दरअसल कांग्रेस के सांसद मनिकम टैगोर ने एक सांसद के हाथ पर बैठे मच्छर का एक वीडियो ट्वीट किया था. इसी वीडियो के आखिरी में दिखाई दे रहा था कि मॉर्टिन की क्वाइल जलाई गई थी।

Advertisement

इस दौरान सांसद ने कल भी स्वास्थ्य मंत्री को टैग करते हुए ट्वीट किया था. टैगोर ने स्वास्थ्य मंत्री को टैग करते हुए ट्वीट कर लिखा, “संसद परिसर में मच्छर हैं, लेकिन विपक्षी सांसद डरते नहीं हैं. मनसुख मंडाविया जी कृपया संसद में भारतीयों का ब्लड बचाइए, बाहर अडानी उनका खून चूस रहे हैं.

टीएमसी की निलंबित राज्यसभा सांसद मौसम नूर सुबह छह बजे चाय लेकर पहुंच गई थीं. उन्हें अन्य सदस्यों के साथ तस्वीर में चाय पीते हुए देखा गया था. उसके बाद

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश भी सांसदों द्वारा प्रदर्शन वाली जगह पर पहुंचे थे. उन्होंने बताया कि उनकी पार्टी भी इसमें हिस्सा ले रही है. उन्होंने ट्वीट किया, कांग्रेस , डीएमके, टीएमसी, सीपीएम और आप सांसद 50 घंटे का धरना दे रहे हैं. ये सांसद महंगाई, जीएसटी को लेकर चर्चा की मांग पर अपने निलंबन को लेकर धरना दे रहे हैं.

सोमवार और मंगलवार को सदन में हंगामे को लेकर 20 सांसदों को निलंबित किया गया. राज्यसभा में विपक्ष के निलंबित सांसदों का बुधवार सुबह 11 बजे शुरू हुआ था, जो आज दोपहर एक बजे खत्म हो जाएगा. इस  दौरान निलंबित सांसदों ने शिफ्ट वाइज धरना दिया।

निलंबित सांसदों में 7 टीएमसी के, 6 डीएमके के, तीन तेलंगाना राष्ट्र समिति के, दो सीपीआई (एम) और एक-एक सांसद आम आदमी पार्टी और सीपीआई के हैं. इसके साथ ही लोकसभा से निलंबित कांग्रेस के चार सांसद भी इस धरने में शामिल हो गए हैं. विरोध कर रहे सांसदों ने टेंट की मांग की थी. लेकिन प्रशासन ने इससे इंकार कर दिया. प्रशासन का कहना है कि संसद परिसर में इस तरह के निर्माण की इजाजत नहीं दी जा सकती।

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button