देश

40 शवों पर चोट का एक भी निशान नहीं, बिजली का करंट लगने से हो गई मौत

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : ओडिशा के बालासोर में हुए भीषण रेल हादसे के बाद मरने वाले कई ऐसे भी लोग हैं जिन्हें कोई बाहरी चोट नहीं आई। रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे एक पुलिस अधिकारी ने कहा है कि कम से कम 40 ऐसे शव निकाले गए हैं जिनको दिखाई देने वाली चोट नहीं आई थी। उन्होंने कहा कि संभव है कि करंट लगने से उनकी मौत हुई है। बताया जा रहा है कि ट्रेन पर ओवरहेड केबल गिर गई जिसके बाद इसमें करंट फैल गया।

Advertisement

जीआरपी के द्वारा दर्ज की गई एफआईआर में कहा गया है कि बहुत सारे यात्रियों की मौत टकराव और करंट लगने की वजह से हुई। ट्रेन के ऊपर लो टेंशन लाइन के गिरने से बोगी में करंट फैल गया था। संभव है कि बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस से कोरोमंडल एक्सप्रेस के टकराने के बाद केबल टूट गई हो।

Advertisement

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, एक तरफ बहुत सारे ऐसे शव थे जो कि पहचान में ही नहीं आ रहे थे, वहीं करीब 40 शव ऐसे हैं जिनको चोट का कोई निशान नहीं है। एक बूंद खून तक नहीं बहा। माना जा रहा है कि करंट लगने से ही उनकी मौत हुई है।

Advertisement

ईस्ट कोस्ट रेलवे में चीफ ऑपरेशन मैनेजर पद से रिटायर हुए पूर्ण चंद्र मिश्रा ने कहा हो सकता है कि जब केबल बोगी से टच हुई उस समय ये यात्री ऐसी जगह रहे हों जहां करंट फैल गया था।

Advertisement

कुछ सेकंड के अंदर ही उनकी मौत हो गई। जीआरपी ने आईपीसी की धारा 304 ए के तहत केस दर्ज किया गया है। यह लापरवाही का केस अज्ञात के खिलाफ दर्ज किया गया है। सीबीआई के आने से पहले डीएसपी रैंक के अधिकारी को इसकी जांच का जिम्मा सौंपा गया है।

कटक के सब डिविजन रेलवे पुलिस अधिकारी रंजीत नायक को यह जांच सौंपी गई है। सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को बताया है कि जॉइंट डायरेक्टर की अगुआई में सीबीआई की टीम मंगलवार को दौरा करेगी। बता दें कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस हादसे में 275 लोगों की मौत हुई है।

वहीं 1000 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। सोमवार को अधिकारियों ने कहा कि अभी 101 शवों की पहचान बाकी है। डिविजनल रेलवे मैनेजर ने कहा कि अभी 200 लोगों का इलाज अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है। 1100 लोग घायल हुए थे जिनमें से 900 को डिसचार्ज कर दिया गया है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button