छत्तीसगढ़

युवक की पिटाई से हुई मौत, पुलिस ने किया मामला दर्ज..

Advertisement

(उज्ज्वल तिवारी) : पेंड्रा : जिले में इवनिंग वॉक कर रही महिलाओ का मोटरसाइकिल दुर्घटना से घायल महिलाओं के परिजनों ने मोटरसाइकिल सवार युवको की इतनी पिटाई कि उसकी मौत हो गई थी। दरअसल पूरा मामला जिले के पेंड्रा थाना क्षेत्र अंतर्गत आमदांड गांव की है। जहां युवक की मौत होने के बाद पिटाई करने वाले परिजन साक्ष मिटाने में भिड़े हुए हैं .

Advertisement

वही मामले में पुलिस ने मामला दर्ज कर दोषियों की पड़ताल कर रही है। मामला बीते 8 मई का है जब रामा पनिका अपने मोटरसाइकिल में सवार होकर पेंड्रा से अपने घर आमांडांड जा रहा था, इसी दौरान बसंतपुर में रहने वाले साहू परिवार की दो महिलाएं एक बच्चे को लेकर शाम के वक्त सड़क में टहल रही थी प्रत्यक्ष दर्शियो के अनुसार इसी दौरान साथ में चल रहा बच्चा अचानक सड़क में दौड़ पड़ा जिसे बचाने के लिए रामां ने अपनी बाइक दूसरी और घुमा दी और बाइक सड़क किनारे टहल रही साहू परिवार की आशा साहू से टकरा गई.

Advertisement

इसके बाद बाइक सवार और महिला दोनों सड़क पर गिर गए जैसे ही साहू परिवार की महिला सड़क पर गिरी साथ में चल रही उसकी देवरानी निशा साहू ने घटना की सूचना तुरंत अपने परिजनों को फोन पर दी और परिवारजन को बुला लिया, महिला की सूचना पर साहू परिवार के अजय साहू और दुर्गा साहू हाथ में क्रिकेट बैट लेकर मौके पर पहुंच आए, इसके बाद घायल आशा साहू , निशा साहू , अजय साहू और दुर्गा साहू ने बाइक सवार रामां पनिका को सड़क पर गिराकर बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी.

लात घूसा के साथ क्रिकेट बैट से भी राम की बेरहमी से तब तक पिटाई की गई , घायल महिला के साथ टहल रही निशा साहू ने जमीन पर पड़े रामा की छाती पर लात से वार किया और कूद गई , रामां की पिटाई तब तक जारी रही जब तक स्थानीय लोगों की सूचना पर घायल का भाई रामप्रसाद मौके पर पहुंचकर उसे छुड़ाने नहीं आया, हालांकि इस दौरान वाहन निकालने वाले कई लोगों ने राम प्रसाद को बचाने की कोशिश की पर सर पर खून सवार साहू परिवार घायल को बुरी तरह पीटता रहा.

अपने लहू लुहान भाई को देखकर राम प्रसाद ने 108 एंबुलेंस को बुलाया और दर्द से तड़पता रहे युवक को जिला अस्पताल लाया गया प्राथमिक उपचार देने के दौरान डॉक्टरों ने उसकी गंभीर स्थिति देखते हुए उसे सिम्स रेफर कर दिया, जहां उपचार के दौरान बीते शुक्रवार को घायल की मौत हो गई। वहीं रामां ही अपने परिवार में कमाने वाला था जो रोजी दिहाड़ी कर अपने परिवार का भरण पोषण करता था .

पीड़ित रामां के दो वृद्ध माता-पिता हैं जबकि उसकी पत्नी की पहले ही मौत हो चुकी है और 10 साल का छोटा बच्चा है जो पिता की मौत के बाद पूरी तरह अनाथ हो गया गरीब परिवार को अब पुलिस से न्याय की उम्मीद है वही रसूखदार साहू परिवार लगातार चस्मदीदो और गवाहों पर दबाव बनाकर उन्हें प्रभावित करने की कोशिश में लगा हुआ है, जानकारी यह भी आई की घायल राम की पिटाई में साहू परिवार के एक शासकीय शिक्षक का भी हाथ है।।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button