छत्तीसगढ़

दुर्ग अमरकंटक एक्सप्रेस से उस यात्री की पत्नी का कंगन और सोने का हार हुआ पार

Advertisement

(भूपेंद्र सिंह राठौर) : भोपाल- दुर्ग अमरकंटक एक्सप्रेस से पीएचइ के सेवानिवृत्त सहायक यंत्री के पत्नी का सोने का हार व कंगन चोरी का मामला सामने आया है। लिखित रिपोर्ट के आधार पर जीआरपी ने अज्ञात चाेरों के खिलाफ अपराध दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। चोरी हुए जेवरात की कीमत लगभग 5 लाख बताई गई है।

Advertisement

भोपाल निवासी एलआर सोनी पीएचई विभाग के सेवानिवृत्त सहायक यंत्री है। वह पत्नी के साथ अमरकंटक एक्सप्रेस के ए-2 की बर्थ नंबर सात व नौ में उसलापुर स्टेशन तक सफर कर रहे थे। दोनों मिनोचा कालोनी में रहने वाली बेटी के यहां आ रहे थे। ट्रेन उसलापुर रुकी और दोनों यात्री घर चले गए। घर जाकर जब उन्होंने काले रंग के बैग को खोला तो हड़बड़ा गए।

Advertisement

दरअसल बैग के अंदर का बाक्स गायब था और बैग ब्लेड से कटा हुआ था। बाक्स के अंदर सोने का हार और दो जोड़ी सोने के कंगन थे। जिनकी कीमत लगभग पांच लाख रूपये है। बैग की हालत देखकर उन्हें माजरा समझ मे आ गया कि किसी ने बड़ी चालाकी से बाक्स को पार कर दिया है।परेशान पीड़ित दामाद के साथ दोपहर में जीआरपी थाने पहुंचे। यहां उन्होंने घटनाक्रम की विस्तार से जानकारी दी।

Advertisement

इसके बाद प्रार्थी ने लिखित में में रिपोर्ट दर्ज कराई। जीआरपी ने अज्ञात चोरों के खिलाफ चोरी का अपराध दर्ज कर लिया है। इसके अलावा उनकी तलाश में जुट गई है।पुलिस ने भरोसा दिलाया है कि जल्द ही आरोपी सलाखों के पीछे होंगे।

Advertisement

प्रार्थी को इस मामले में उन तीन युवकों पर संदेह है, जो ट्रेन के करगीरोड रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद उनकी बर्थ में आकर बैठ गए। धीरे से प्रार्थी से बातचीत शुरू की और यह कहने लगे कि वह उसलापुर रेलवे स्टेशन में उतरेंगे। स्टेशन पहुंचने से पहले उन्ही युवको ने उनका बैग ट्रेन के गेट तक पहुंचाने में उनकी मदद की। इसके बाद जैसे ही घुटकू रेलवे स्टेशन से ट्रेन पार हुई वह तीनों दूसरी बोगी में चले गए। जिस बैग में गहने थे उसे भी एक युवक ने मदद के नाम पर पकड़ रखा था। प्रार्थी को उन्ही पर संदेह है।

रेलवे, उसलापुर स्टेशन को शहर का दूसरा टर्मिनल बनाने का दावा कर रही है। इसी के तहत लगातार ट्रेनों का स्टापेज भी शुरू किया जा रहा है। लेकिन, इस स्टेशन में सुरक्षा का कोई भी इंतजाम नहीं है। यहां जीआरपी का थाना है और न ही चौकी। इसके चलते यात्री किसी भी घटना की रिपोर्ट नहीं दर्ज करा पाते। उन्हें बिलासपुर रेलवे स्टेशन जाना पड़ता है। रविवार को प्रार्थी यात्री को इसी तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button